Mother’s Day 2024: राशि, मूलांक और वास्तु के अनुसार इस मातृ दिवस पर अपनी माँ को दें ये तोहफे!

ज्योतिष एक ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से जटिल से जटिल चीजों को भी बहुत ही सरलता के साथ जाना और समझा जा सकता है। आइये इस खास मातृ दिवस (Mother’s Day 2024) के मौके पर जानते हैं कि ज्योतिष में मां का क्या अर्थ है और ग्रहों और मां का क्या संबंध होता है। 

ज्योतिष में मां को चंद्रमा के समान माना गया है। अंग्रेजी में मां को मॉम और चंद्रमा को मून कहते हैं जो सुनने में भी एक जैसा लगता है। इस वर्ष 12 मई का दिन बेहद ही खास माना जा रहा है क्योंकि इस दिन मदर्स डे अर्थात हमारी माओं को समर्पित दिन मनाया जाएगा। यह दिन अपनी माता के प्रति अपनी भक्ति  और प्रेम को दर्शाने के लिए बनाया गया है। 

दुनियाभर के विद्वान ज्योतिषियों से करें कॉल/चैट पर बात और जानें अपनी माँ के भविष्य से जुड़ी हर जानकारी

बहुत से लोग इस दिन अपनी मां को खास महसूस करवाने के लिए उनका पसंदीदा खाने बनाते हैं, उन्हें तरह-तरह के उपहार देते हैं, ताकि उनके चेहरे पर खुशियां ला सकें। अपने इस विशेष ब्लॉग के माध्यम से आज हम मदर्स डे के बारे में जानेंगे। साथ ही जानेंगे कि इस दिन का ज्योतिष में क्या महत्व है और साथ ही जानेंगे कि इस मदर्स डे को आप अपनी मां के लिए खास बनाने के लिए उन्हें उनकी राशि अनुसार क्या कुछ तोहफा दे सकते हैं। 

मदर्स डे: ज्योतिषीय महत्व 

वेदों में किस तरह से मां का महत्व और उनका वर्णन किया गया है चलिए इसके बारे में पहले कुछ श्लोक जान लेते हैं। 

रामायण में प्रभु श्री राम मां को स्वर्ग से बढ़कर मानते हैं और कहते हैं कि, 

‘जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गदपि गरीयसी.’

अर्थात जननी और जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर होती है। 

इसके अलावा महाभारत में कहा गया है कि, जब यक्ष धर्मराज युधिष्ठिर से पूछते हैं कि भूमि से भारी कौन है? तब युधिष्ठिर कहते हैं, 

“माता गुरुतरा भूमेः” 

अर्थात माता इस भूमि से कहीं अधिक भारी होती हैं।  

इसके अलावा महाभारत महाकाव्य के रचयिता महर्षि वेदव्यास मां के बारे में लिखते हैं, 

“नास्ति मातृसमा छाया, नास्ति मातृसमा गतिः। नास्ति मातृसमं त्राण, नास्ति मातृसमा प्रिया।” 

अर्थात, माता के समान कोई छाया नहीं है, माता के समान कोई सहारा नहीं है।

मातृ देवो भव माता देव 

यानि भगवान के समान है। 

‘यस्य माता गृहे नास्ति, तस्य माता हरितकी।’

अर्थात, हरीतकी (हरड़) मनुष्यों की माता के समान हित करने वाली होती है।

यह तो केवल कुछ ऐसे श्लोक हैं जो माँ के महत्व और उनकी खूबसूरती को दर्शाते हैं। मां के ऊपर लिखने चलो तो जीवन कम पड़ जाए। हमें जीवन देने वाली, हमें जीवन में सही राह दिखाने वाली, अपने बच्चों के लिए कुछ भी कर गुजरने वाली ऐसी सभी माओं को हमारा नमन है और उनके बारे में जितना कहा जाए वह कम है। 

बात करें इन्हें समर्पित खास दिवस अर्थात मदर्स डे की तो हर वर्ष मई के दूसरे रविवार के दिन मदर्स डे का यह पर्व मनाया जाता है। यह परंपरा तकरीबन 111 सालों से चली आ रही है। इस दिन के इतिहास के बारे में बात करें तो कहा जाता है कि मदर्स डे का इतिहास ग्रीस से जुड़ा है। युन्नान के नाम से भी इस दिन को जाना जाता है। कहते हैं कि प्राचीन काल में यूनानियों और रोमन लोगों ने मातृ देवियों रिया और साइबेले के सम्मान में अलग-अलग आयोजन किया। हालांकि इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिलती है। आधुनिक समय के अनुसार बात करें तो मदर्स डे का इतिहास अमेरिका में 20 वीं शताब्दी के बाद देखा जाता है।

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा 

कैसे हुई मदर्स डे की शुरुआत? 

माओं के सम्मान में मदर्स डे की शुरुआत अमेरिका में हुई। कहा जाता है कि एक्टिविस्ट अन्ना जार्विस ने इस दिन को मनाना शुरू किया था। उनकी मां के अथक परिश्रम, त्याग और समाज सेवा में उनकी भूमिका ने अन्ना को बेहद ही प्रेरित किया और वह अपनी मां से इतना प्यार करती थी कि जब उनका निधन हुआ तो उन्होंने अपनी मां के प्रति अपना सम्मान और प्यार जताने के लिए ही इस दिन की शुरुआत की। धीरे-धीरे यह दिन विश्व के कई देशों द्वारा मनाया जाने लगा। 

पाएं अपनी कुंडली आधारित सटीक शनि रिपोर्ट

दूसरे रविवार को ही क्यों मनाया जाता है मदर्स डे? 

अब सवाल ये भी उठता है कि आखिर दूसरे रविवार को ही मदर्स डे क्यों मनाते हैं तो,  1914 को संयुक्त राज्य अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन ने एक कानून पारित किया जिसमें कहा गया कि मदर्स डे को मई के दूसरे रविवार के दिन मनाया जाएगा और तभी से अमेरिका समेत अन्य देशों में इस दिन को मनाया जाने लगा। 1908 में अमेरिकी कांग्रेस ने इस दिन को आधिकारिक अवकाश बनाने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया लेकिन अन्ना जार्विस ने अपना प्रयास जारी रखा और 1911 तक कई अमरीकी राज्य में मदर्स डे को अवकाश घोषित किया गया। 

मदर्स डे का महत्व 

इस दिन के महत्व की बात करें तो मदर्स डे का यह खास दिन अपनी मां के प्रति अपने प्यार को, प्रशंसा दिखाने के लिए एक उपयुक्त दिन माना जाता है। हालांकि हम मानते हैं कि अपनी मां के प्रति प्यार और सम्मान दिखाने के लिए कोई एक दिन काफी नहीं होता है लेकिन साल के 365 दिन में से किसी एक खास दिन पर आप अपनी मां को रोजमर्रा के काम और भागदौड़ से अलग महसूस और उन्हें खास महसूस करवा सकते हैं। वह है मदर्स डे का यह दिन। इस दिन को और भी खास बनाने के लिए आप चाहे तो उन्हें राशि अनुसार कुछ तोहफे दे सकते हैं जिसे वह हमेशा याद रखें और उनकी वह खूबसूरत मुस्कान उनके चेहरे पर बनी रहे। 

राशि अनुसार और मूलांक के अनुसार अगर आप अपनी मां को मदर्स डे का तोहफा देना चाहते हैं तो हमारा यह विशेष लेख अंत तक पढ़ें क्योंकि हम इसमें कुछ ऐसे गिफ्ट आईडियाज दे रहे हैं जिन्हें अपना कर आप अपनी मां के लिए मदर्स डे को और भी खास बना सकते हैं। हालांकि गिफ्ट आईडियाज जानने से पहले चलिए जान लेते हैं कुंडली में माता और चंद्रमा का क्या संबंध होता है।

इस साल 12 मई 2024 को मदर्स डे मनाया जाएगा। जैसा कि हमने ऊपर भी बताया की मदर्स डे मई के दूसरे रविवार के दिन मनाया जाता है। ऐसे में इस साल मई का दूसरा रविवार 12 मई में को पड़ेगा और इस दिन मदर्स डे है। 

करियर की हो रही है टेंशन! अभी ऑर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

ज्योतिष और मदर्स डे का कनेक्शन 

ज्योतिष विज्ञान का सबसे महत्वपूर्ण ग्रह चंद्रमा माँ को दर्शाता है। कुंडली में चंद्रमा का चौथा भाव होता है और इस पर भी माँ के जीवन पर प्रभाव नजर आता है। चंद्रमा ज्योतिष में मां का कारक ग्रह भी कहा माना गया है। 

काल पुरुष कुंडली में चतुर्थ भाव का स्वामी चंद्रमा को माना गया है। चतुर्थ भाव हमारी मां, सुख सुविधाओं, भवन, गृहस्थ सुख आदि को दर्शाता है। अगर किसी की कुंडली में चतुर्थ भाव या चंद्रमा बलवान होता है तो वह व्यक्ति निश्चित रूप से समृद्धशाली और खुशहाल जीवन व्यतीत करता है। हालांकि वहीं इसके विपरीत अगर चतुर्थ भाव पीड़ित या पापी ग्रहों के प्रभाव में आ जाए तो इससे मां के जीवन में संघर्ष, पीड़ा और बीमारियां बनी रहती है। जिस तरह मां की गोद एक सुखद अहसास कराती है उसी तरह से चतुर्थ भाव असीम सुख को दर्शाता है। जिस भी व्यक्ति का चौथा भाव उसका स्वामी या चंद्रमा पीड़ित होता है वह गृह और हर तरह के सुख से वंचित रहता है। 

अगर किसी की कुंडली का चौथा भाव पीड़ित है तो ऐसे व्यक्ति के जीवन में तमाम परेशानियां आती हैं, उनके गृह सुख में हमेशा अभाव देखने को मिलता है, जीवन में कलह क्लेश बना रहता है। ऐसे जातकों को वाहन और भवन सुख नहीं मिल पाता है, उन्हें हृदय रोग हो सकता है, कई बार ऐसे जातकों को अपनी जन्मभूमि छोड़कर विदेश जाना पड़ता है, उन्हें माता का सुख नहीं मिलता और कई बार तो ऐसे जातक पागलपन या मानसिक अवसाद से भी घिरने लगते हैं। ऐसी स्थिति में चंद्रमा को मजबूत बनाना बेहद आवश्यक होता है।

कुंडली में है राजयोग? राजयोग रिपोर्ट से मिलेगा जवाब

इन ज्योतिषीय उपायों से चंद्रमा को बनाएँ मजबूत 

  • शिवलिंग पर दूध अर्पित करें। 
  • सोमवार के दिन हो सके तो व्रत रखें। 
  • भगवान शिव का रुद्राभिषेक करें। 
  • मां गौरी की पूजा करें। 
  • बूढ़ी महिलाओं का आदर सत्कार करें। 
  • कहीं वृद्ध आश्रम में जाकर बूढ़ी औरतों की मदद, उनकी सेवा करें। 
  • चीनी, चावल और दूध का दान करें। 
  • इसके अलावा आप चाहें तो मोती भी धारण कर सकते हैं। हालांकि इसके लिए किसी विद्वान ज्योतिषी से परामर्श अवश्य ले लें।

राशि अनुसार मदर्स डे पर गिफ्ट आईडियाज

मेष राशि: अगर आपकी मां की राशि मेष है तो निश्चित तौर पर उनका स्वभाव बेहद ऊर्जावान और साहस को दर्शाने वाला है। ऐसी मां को आप ऐसे तोहफे दे सकते हैं जो उनके व्यक्तित्व से मेल खाएं। जैसे आप उन्हें किसी आउटडोर एडवेंचर पार्क में ले जा सकते हैं या किसी ऐसी गतिविधियों में शामिल कर सकते हैं या फिर आप उन्हें कोई अच्छी किताब भी उपहार में दे सकते हैं। 

वृषभ राशि: वृषभ राशि की माताएं अपने जीवन में बेहतरीन चीजों का लुफ्त उठाना पसंद करती हैं। ऐसे में आप उन्हें कोई शानदार स्पा टिकट, कोई डिजाइनर परफ्यूम या खाने की कोई स्वादिष्ट चीज तोहफे में दे सकते हैं। 

मिथुन राशि: मिथुन राशि की माताओं को व्यस्त रहना बहुत पसंद होता है। ऐसे में आप उन्हें कुछ ऐसा दे सकते हैं जिससे वह व्यस्त रहें। इसके लिए आप उन्हें कोई पहेली, या पजल की किताब या किसी पसंदीदा लेखक की पुस्तक तोहफे में दे सकते हैं। 

कर्क राशि: कर्क राशि की माताएं पूरी तरह से आराम और पालन पोषण में रुचि रखती हैं। ऐसे में आप उन्हें पर्सनलाइज्ड फोटो एल्बम, कोई सॉफ्ट कोजी कंबल या घर को सजाने का कोई सामान तोहफे में दे सकते हैं।

सिंह राशि: सिंह राशि की महिलाओं को सेंटर आफ अट्रैक्शन बनना पसंद होता है। ऐसे में आप उन्हें कोई स्टेटमेंट ज्वेलरी या कोई डिजाइनर हैंडबैग या फिर किसी लोकप्रिय शो का टिकट दे सकते हैं। 

कन्या राशि: कन्या राशि की माताएं बहुत ही व्यावहारिक और व्यवस्थित स्वभाव की होते हैं। ऐसे में अगर आप इन्हें कोई तोहफा देना चाहते हैं तो आप उन्हें घर को संगठित करने का कोई चीज या फिर कोई ट्रिप प्लान करके दे सकते हैं। यह उन्हें अवश्य पसंद आएगा। 

तुला राशि: तुला राशि की माताएं सुंदरता और संतुलन अपने जीवन में पसंद करती हैं। ऐसे में आप उन्हें फूलों का गुलदस्ता, कोई आर्ट का टुकड़ा आदि दे सकते हैं। 

वृश्चिक राशि: वृश्चिक राशि की माताएं प्रखर और भावुक स्वभाव की होते हैं। ऐसे में आप उन्हें कोई हाई एंड  परफ्यूम या फिर कोई मसाज पार्लर का कूपन आदि दे सकते हैं। 

धनु राशि: धनु राशि की माताएं स्वतंत्र विचारों वाली होती हैं और बेहद ही साहसी होती हैं। ऐसे में आप उन्हें घूमने फिरने की कोई चीज, कोई गाइड बुक आदि दे सकते हैं। 

मकर राशि: मकर राशि की माताएं बेहद ही मेहनती, महत्वाकांक्षी होती हैं। ऐसे में आप उन्हें स्पा या फिर योग का कोई टिकट दे सकते हैं या फिर कोई उच्च गुणवत्ता वाला एसेंशियल ऑयल भी तोहफे में दे सकते हैं। 

कुंभ राशि: कुम्भ राशि की माताएँ रचनात्मक स्वभाव की होती हैं। ऐसे में आप उन्हें कोई कला किट, कोई DIY प्रोजेक्ट कीट आदि दे सकते हैं। 

मीन राशि: मीन राशि की माताएं सहज और संवेदनशील स्वभाव की होती हैं। ऐसे में आप उन्हें कोई कला से संबंधित चीज, फूलों का गुलदस्ता आदि तोहफे में दे सकते हैं।

जीवन में किसी भी दुविधा का हल जानने के लिए विद्वान ज्योतिषियों से अभी पूछें प्रश्न

मूलांक के अनुसार मदर्स डे पर गिफ्ट आईडियाज 

मूलांक के आधार पर अगर आप अपनी मां को कुछ देना चाहते हैं तो इसका विकल्प हम आपको नीचे दे रहे हैं।

अगर आपकी माताजी का जन्म एक 1, 19 से 28 तारीख को हुआ है अर्थात उनका मूलांक १ है तो आप उन्हें कोई पसंदीदा रंग की साड़ी, सूट या ड्रेस दे सकते हैं। 

अगर आपकी माताजी का जन्म 2, 11 या 20 तारीख को हुआ है अर्थात उनका मूलांक 2 है तो आप उनके लिए मोती, चांदी से बने गहने गिफ्ट कर सकते हैं। 

अगर आपकी माता का जन्म तीन 12, 21 या 30 तारीख को हुआ है अर्थात उनका मूलांक 3 है तो आप उनके किसी पसंदीदा रेस्टोरेंट में स्पेशल लंच या डिनर का प्लान कर सकते हैं। 

अगर आपकी माता जी का जन्म 4, 22 से 31 तारीख को हुआ है तो आप उन्हें कोई अच्छी खूबसूरत हाथ में पहनने वाली घड़ी गिफ्ट कर सकते हैं। 

अगर आपकी मां का जन्म 5, 14 या फिर 23 तारीख को हुआ है तो आप उनके साथ गिफ्ट की बजाय समय व्यतीत करें। उन्हें ज्यादा पसंद आएगा। 

अगर आपकी माताजी का जन्म 6, 15 या 24 तारीख को हुआ है अर्थात उनका मूलांक 6 है तो आप उनके साथ कोई पसंदीदा डिश बना सकते हैं या फिर आप खुद हाथ से बनी हुई कोई डिश उन्हें खिला सकते हैं। 

अगर आपकी माता जी का जन्म 7, 16 या फिर 25 तारीख को हुआ है अर्थात उनका मूलांक 7 है तो आप उन्हें कोई भगवान की मूर्ति या आध्यात्मिक चीज गिफ्ट कर सकते हैं। 

अगर आपकी माताजी का जन्म 8, 17 या 26 तारीख को हुआ है अर्थात उनका मूलांक 8 है तो आप उन्हें ब्यूटी ट्रीटमेंट का टिकट गिफ्ट कर सकते हैं। 

अगर आपकी माताजी का जन्म 9, 18 या 27 तारीख को हुआ है अर्थात उनका मूलांक 9 है तो आप उन्हें कहीं घूमने ले जा सकते हैं। अर्थात उन्हें कोई ऐसी ट्रिप प्लान करके दे सकते हैं जिसका वह लंबे समय से इंतजार कर रही हैं।

वास्तु के अनुसार ये गिफ्ट आईडियाज़ मदर्स डे को बनाएंगे और भी खास 

अगर आप वास्तु के हिसाब से अपनी मां को मदर्स डे का तोहफा देना चाहते हैं तो, 

  • आप उन्हें चांदी की कोई वस्तु या मिट्टी की कोई वस्तु दे सकते हैं। चांदी की वस्तु देने से आपके जीवन और आपकी मां के जीवन में मां लक्ष्मी की कृपा बनेगी। मिट्टी का तोहफा देने से घर से दुर्भाग्य खत्म होगा। 
  • आप अपनी माँ को फूल भी दे सकते हैं। फूल देने से मानसिक और शारीरिक तनाव दूर होगा। 
  • लाफिंग बुद्धा दे सकते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार यह जीवन में खुशियां और धन लेकर आता है। 
  • या फिर आप उन्हें कपड़े आदि दे सकते हैं। इससे सौभाग्य बढ़ता है।

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह ब्लॉग ज़रूर पसंद आया होगा। अगर ऐसा है तो आप इसे अपने अन्य शुभचिंतकों के साथ ज़रूर साझा करें। धन्यवाद!

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. 2024 को मदर डे कब है?

उत्तर 1. साल 2024 में मदर्स डे 12 मई रविवार के दिन मनाया जाएगा।

प्रश्न 2. एक साल में कितने मदर्स डे होते हैं?

उत्तर 2.  एक साल में एक बार मदर्स डे पड़ता है।

प्रश्न 3. मई में मदर्स डे कौन से देश मनाते हैं?

उत्तर 3.  अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, ब्राजील, कनाडा, चीन, कोलंबिया, क्रोएशिया, क्यूबा, ​​​​इक्वाडोर, अधिकांश यूरोप, ग्रेनाडा, होंडुरास, हांगकांग सहित कई देशों में मदर्स डे मनाते हैं।

प्रश्न 4.  मदर्स डे की तारीख कैसी है?

उत्तर 4. मदर्स डे मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है।

 

Dharma

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

बजरंग बाण की हिन्दू धर्म में बहुत मान्यता है। हनुमान जी को एक ऐसे देवता के रूप में ...

51 शक्तिपीठ जो माँ सती के शरीर के भिन्न-भिन्न अंगों के हैं प्रतीक

भारतीय उप महाद्वीप में माँ सती के 51 शक्तिपीठ हैं। ये शक्तिपीठ माँ के भिन्न-भिन्न अंगों और उनके ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र (Kunjika Stotram) से पाएँ दुर्गा जी की कृपा

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र एक ऐसा दुर्लभ उपाय है जिसके पाठ के द्वारा कोई भी व्यक्ति पराम्बा देवी भगवती ...

12 ज्योतिर्लिंग: शिव को समर्पित हिन्दू आस्था के प्रमुख धार्मिक केन्द्र

12 ज्योतिर्लिंग, हिन्दू आस्था के बड़े केन्द्र हैं, जो समूचे भारत में फैले हुए हैं। जहाँ उत्तर में ...

दुर्गा देवी की स्तुति से मिटते हैं सारे कष्ट और मिलता है माँ भगवती का आशीर्वाद

दुर्गा स्तुति, माँ दुर्गा की आराधना के लिए की जाती है। हिन्दू धर्म में दुर्गा जी की पूजा ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.