क्या होती है योगिनी दशा? ज्योतिष से जानें शुभ-अशुभ योगिनी दशा की जानकारी

भारतीय धर्म ग्रंथों व पुराणों के अनुसार वेदों से अवतरित ज्योतिष शास्त्र को  नेत्र का स्थान दिया गया है। ज्योतिष

आपकी जन्म कुंडली बता सकती है आपके इष्ट देव कौन हैं

इष्ट देव या देवी का निर्धारण हमारे जन्म-जन्मान्तर के संस्कारों से होता है। ज्योतिष में जन्म कुंडली के पंचम भाव

जानें कब से शुरू है अधिक मास और क्या है इसका पौराणिक महत्व?

भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सौर वर्ष और चंद्र वर्ष में सामंजस्य स्थापित करने के लिए हर तीसरे वर्ष पंचांगों

गुरु ग्रह हो रहा है मार्गी, राशिनुसार जानें अपने जीवन पर इसका प्रभाव

वैदिक ज्योतिष में गुरु ग्रह को बेहद ही महत्वपूर्ण दर्जा दिया गया है। भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बृहस्पति ग्रह

कार्यक्षेत्र पर शुक्र ग्रह का प्रभाव और शुक्र की स्थिति मज़बूत करने के उपाय

ज्योतिष में शुक्र ग्रह सौरमंडल का सबसे दैदीप्यमान ग्रह है। यह वृष तथा तुला राशि का स्वामी है तथा तुला

सफल करियर के लिए इन उपायों से बृहस्पति की स्थिति को करें मज़बूत

ज्योतिष में, बृहस्पति ग्रह की स्थिति को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। बृहस्पति ग्रह सभी ग्रहों में सबसे अधिक भारी

क्यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस व जानें शिक्षक बनने के ज्योतिषीय योग

किसी भी इंसान के जीवन में गुरु/शिक्षक का होना बेहद ज़रूरी होता है। हम यहाँ सिर्फ स्कूल या कॉलेज के

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जाने कर्ज़ की समस्या व उनसे जुड़े समाधान

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध

1 2 3 4