कल शुक्र कर रहा है उच्च राशि में गोचर, जानिए क्या पड़ेगा अन्य राशियों पर प्रभाव।

हिन्दू धर्म और ज्योतिष शास्त्र में शुक्र को भौतिक सुख-सुविधाओं को देने वाले ग्रह के रूप में देखा जाता है। ज्योतिष में शुक्र ग्रह को स्त्री ग्रह माना गया है। जिन व्यक्तियों की कुंडली में शुक्र मज़बूत स्थिति में होता हैं उन्हें भौतिक सुखों में वृद्धि के साथ-साथ वैवाहिक जीवन भी सुखद बीतता है लेकिन अगर आपकी कुंडली में शुक्र कमजोर है तो न सिर्फ आपका वैवाहिक जीवन कष्टदायी रहने वाला है बल्कि, आपको सामाजिक, मानसिक, आर्थिक और शारीरिक कष्ट का भी सामना करना पड़ सकता है। 

यही वजह है कि 17 मार्च 2021 ज्योतिष दृष्टि से सभी राशियों के लिए काफी महत्वपूर्ण रहने वाला है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दिन शुक्र ग्रह अपनी उच्च राशि मीन में गोचर कर रहे हैं।

जीवन की दुविधा दूर करने के लिए विद्वान ज्योतिषियों से करें फोन पर बात और चैट 

कब से कब तक रहने वाली है शुक्र गोचर की अवधि

कब से: 17 मार्च 2021

दिन: बुधवार

समय: 02 बजकर 49 मिनट से

कब तक: 10 अप्रैल 2021

दिन: शनिवार

समय: 06 बजकर 15 मिनट तक

ऐसे में यह जानना काफी दिलचस्प रहेगा कि इस गोचर का सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है। आइये देखते हैं:

मेष राशि :

मेष राशि के जातकों के लिए यह समय मिला-जुला सा रहने वाला है। लव लाइफ अच्छी रहेगी और वैवाहिक जीवन सुखद रहेगा। अगर पार्टनर से कोई विवाद लंबे समय से चल रहा है तो उसके निपटारे की भी संभावना दिख रही है। व्यवसाय से जुड़ी किसी भी तरह की विदेश यात्रा या विदेशी संपर्क फलदायी साबित होगी। आय में वृद्धि तो होगी लेकिन व्यय भी बढ़ेगा। मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। आँख और त्वचा का विशेष ध्यान रखें।

उपाय : सोमवार और शुक्रवार के दिन सफ़ेद कपड़े धारण करें। बेहतर परिणाम मिलेंगे।

वृषभ राशि :

वृषभ राशि के जातकों के लिए यह समय हर दृष्टि से शुभ रहने वाला है। मुश्किल लग रहे काम भी आश्चर्यजनक ढंग से बेहद आसानी से पूरे हो जाएँगे। लव लाइफ बेहद शानदार रहेगी। जीवनसाथी के साथ किसी ट्रिप पर जाने की संभावना है। करियर के क्षेत्र में मान-सम्मान मिलेगा, पदोन्नति होगी और आय भी बढ़ेगी। छात्र अपनी क्षमता के अनुसार अब तक का सबसे बेहतर प्रदर्शन करेंगे। परिवार की ओर से उपहार और अचानक लाभ भी मिलने की संभावना है।

उपाय : युवा लड़कियों को सौंदर्य से जुड़ी कोई वस्तु दान में दें।

मिथुन राशि :

इस अवधि में मिथुन राशि के जातकों की रचनात्मकता में इजाफा होगा, जिसकी वजह से उच्च मानक वाले लक्ष्य भी समय सीमा के अंदर प्राप्त कर लेंगे। कार्यक्षेत्र में उन्नति होगी। अगर मिथुन राशि के जातक कला या मीडिया से जुड़े लोग हैं तो अपने फैशन/शौक को पेशे में बादल सकते हैं, सफलता मिलेगी। दाम्पत्य जीवन सुखमय रहेगा। पार्टनर के साथ कहीं घूमने जा सकते हैं। संतान को तरक्की मिलेगी। घर का वातावरण शांत और सुखद रहेगा।

उपाय : हर रोज शुक्र होरा के दौरान शुक्र मंत्र का जाप करें।

यह भी पढ़ें: 17 मार्च को उच्च राशि में होगा शुक्र का गोचर, क्या होगा मीन राशि पर प्रभाव?

कर्क राशि :

कर्क राशि के जातकों की वर्तमान वेतन में वृद्धि के साथ-साथ पदोन्नति की भी प्रबल संभावना है। अगर किसी संपत्ति या वाहन में निवेश करने की इच्छा है तो इस अवधि के दौरान कर सकते हैं, लाभान्वित होंगे। परिवार, दोस्तों और पार्टनर का भरपूर सहयोग और प्यार प्राप्त होगा। शिक्षा के लिए विदेश यात्रा करने के इच्छुक छात्रों के लिए यह अवधि बेहतर साबित होगी।

उपाय :  हर सुबह पूजा के दौरान ‘श्री यंत्र’ का ध्यान करें।

सिंह राशि :

व्यवसाय में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है। आत्मविश्वास कम होगा। कार्यक्षेत्र में बातचीत के दौरान व्यवहार को सौहार्दपूर्ण रखने की कोशिश करनी होगी। लव लाइफ अच्छी होगी। ससुराल पक्ष से लाभ मिलेगा। स्वास्थ्य को लेकर बेहद सजग रहने की जरूरत है। यात्रा से बचें।

उपाय : इस अवधि के दौरान आप भगवान परशुराम की कथा सुनें और पढ़ें, लाभ मिलेगा।

कन्या राशि :

कार्यक्षेत्र में प्रशंसा मिलेगी। हर जगह आकर्षण का केंद्र बने रहेंगे। व्यवसाय के क्षेत्र में नए अवसर और लाभ मिलेंगे। नया व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं, सफलता मिलेगी। समाज में प्रतिष्ठा बढ़ेगी। अदालती मामलों में सुखद समाचार मिल सकता है। परिवार और पार्टनर का सहयोग मिलेगा।

उपाय : हर रोज सुबह में “अष्ट लक्ष्मी स्तोत्रम” का पाठ करें, लाभ मिलेगा।

तुला राशि :

तुला राशि के जातकों को स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरुरात है। सर्दी, खांसी, आँख और त्वचा से संबंधित परेशानियों से जूझ सकते हैं। आर्थिक स्थिति कमजोर होगी। दुश्मन हावी होते हुए दिखेंगे। कार्यक्षेत्र में चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। मानसिक तनाव बढ़ सकता है। जीवनसाथी के साथ रिश्ते सामान्य रहेंगे।

उपाय : शुक्रवार के दिन दाहिने हाथ की अनामिका उंगली में चाँदी/सोने से निर्मित  अच्छी गुणवत्ता वाला हीरा या ओपल धारण करें।

वृश्चिक राशि : 

नाम, सम्मान और लोकप्रियता हासिल होगी। व्यवसाय में मुनाफा होगा। कार्यक्षेत्र में पदोन्नति की संभावना भी बन रही है। मीडिया, पत्रकारिता, फैशन आदि का अध्ययन करने वाले छात्रों के लिए बेहद शुभ समय है। पार्टनर के साथ संबंध मधुर होंगे और रोमांस अपने उच्चतम स्तर पर होगा। व्यवहार में चंचलता आएगी जिस वजह से आकर्षण का केंद्र बनेंगे।

उपाय : हर रोज “श्री ललिता सहस्रनाम स्तोत्रम्” का पाठ करें।

धनु राशि :

धनु राशि के जातकों को अपने मातृ पक्ष से किसी तरह का उपहार मिलने की संभावना है। माँ के साथ रिश्तों को एक नयी दिशा मिलेगी। घर-परिवार और दोस्तों से नज़दीकियाँ बढ़ेंगी। जमीन और अचल संपत्ति की खरीद-बिक्री से मुनाफा मिलने की संभावना है। सही और गलत लोगों की पहचान करने की क्षमता में वृद्धि होगी।

उपाय : आप प्रतिदिन देवी कात्यायनी की पूजा-अर्चना करें। बेहतर फल मिलेंगे।

मकर राशि :

भाई-बहन के साथ रिश्ते मधुर होंगे। व्यवसाय में छोटी-छोटी यात्राओं के योग बन रहे हैं। रचनात्मकता में वृद्धि होगी। ट्रेडिंग या शेयर मार्केट से जुड़े लोगों के लिए बेहद शुभ समय है। संतान को अपने कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलेगी। संगीत, कल आदि के क्षेत्र का शौक रखने वाले जातक अगर चाहें तो इस अवधि के दौरान इसे पेशे में बदल सकते हैं, सफलता मिल सकती है।

उपाय : दाहिने हाथ की अनामिका में चाँदी या फिर सोने में गढ़ी हुई ओपल धारण करें।

कुम्भ राशि :

व्यवसाय और करियर में वित्तीय लाभ होगा। पैतृक संपत्ति से अचानक ही कोई लाभ या मुनाफा होगा। पिता का सहयोग मिलेगा। आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। जातक इस दौरान किसी संपत्ति या निवेश योजनाओं में अपने पैसे का निवेश करेंगे और मुनाफा कमाएंगे। उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छा रखने वाले छात्रों के लिए भी बेहद अच्छा समय रहने वाला है।

उपाय : दक्षिण-पूर्व की दिशा में शीश झुका कर प्रार्थना करें। शुक्र इस दिशा का स्वामी है।

मीन राशि :

आकर्षण का केंद्र बनेंगे। आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। इस अवधि में आपके व्यवसाय या करियर में तरक्की हो सकती है। वैवाहिक जीवन सुखद रहेगा। पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताएंगे। अचानक किसी तरह का लाभ मिलने का योग बन रहा है। भाई- बहनों का पूरा सहोयोग मिलेगा। स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने की जरूरत है।

उपाय : हर रोज शुक्र होरा के दौरान “श्री सूक्तम” का पाठ करें।

Astrology

Dharma

विष्णु मंत्र - Vishnu Mantra

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

12 Jyotirlinga - 12 ज्योतिर्लिंग

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र - Kunjika Stotram: दुर्गा जी की कृपा पाने का अचूक उपाय

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

51 Shakti Peeth - 51 शक्तिपीठ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.