कार्यक्षेत्र से जुड़े केतु ग्रह का द्वादश भावों में फल

ज्योतिष में, किसी जातक की कुंडली में ग्रहों की स्थिति जीवन में उसके करियर को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। कुंडली में मौजूद यह ग्रह हमारे करियर को सही दिशा देते हैं और उसे सही राह पर ले जाने में भी मददगार होते हैं। ऐसे में अगर आप भी अपनी कुंडली में मौजूद ग्रहों के अनुसार अपने लिए उपयुक्त करियर की तलाश में हैं तो हमारी कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट इसमें आपकी मदद कर सकती है।

जीवन में चल रही है समस्या! समाधान जानने के लिए प्रश्न पूछे

आप अपने करियर से संबंधित सवालों का जवाब जानने के लिए प्रश्न पूछ सकते हैं और कुंडली में मौजूद ग्रहों की स्थिति के आधार पर अपने लिए अनुकूल करियर विकल्पों के बारे में पेशेवर ज्योतिषी से ज्योतिषीय मार्गदर्शन भी प्राप्त कर सकते हैं। अब हम बात करते हैं ‘छाया ग्रह’ केतु के बारे में, और साथ ही कुंडली में इसकी उपस्थिति और हमारे कैरियर और पेशेवर जीवन पर इसके प्रभाव के बारे में।

कुंडली के 12 भावों में नौ ग्रह सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु और केतु विचरण करते हैं। इन नौ ग्रहों में केतु एक छाया ग्रह है, लेकिन जन्म कुंडली में यह जिस भाव में स्थित होता है, उससे संबंधित क्षेत्र में व्यक्ति पर जीवन भर असर डालता है। भारतीय ज्योतिष के अनुसार राहु और केतु, सूर्य एवं चंद्र के परिक्रमा पथों के आपस में काटने के दो बिंदुओं के द्योतक हैं, जो पृथ्वी के सपेक्ष एक दूसरे के विपरीत दिशा में स्थित रहते हैं। चूंकि ये ग्रह कोई खगोलीय पिंड नहीं हैं, इन्हें छाया ग्रह कहा जाता है।

अपने कैरियर और शिक्षा में सफलता प्राप्त करें: आज ही खरीदें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट 

हिन्दू ज्योतिष में केतु अच्छी व बुरी आध्यात्मिकता एवं पराप्राकृतिक प्रभावों के कार्मिक संग्रह का द्योतक है। यह ग्रह तर्क, बुद्धि, ज्ञान, वैराग्य, कल्पना, अंतर्दृष्टि, मर्मज्ञता, विक्षोभ और अन्य मानसिक गुणों का कारक है। 

ऐसा माना जाता है कि केतु अपने भक्त के परिवार को समृद्धि दिलाता है। ज्योतिष गणनाओं के लिए केतु को तटस्थ अथवा नपुंसक ग्रह मानते हैं। यह ग्रह तीन नक्षत्रों का स्वामी है:  अश्विनी, मघा एवं मूल नक्षत्र। यही केतु जन्म कुण्डली में राहु के साथ मिलकर कालसर्प योग की स्थिति बनाता है। केतु मतान्तर से वृश्चिक व धनु राशि में उच्च का और वृष व मिथुन में नीच राशि में माना जाता होता है। मत्स्य पुराण के अनुसार केतु बहुत-से हैं, उनमें धूमकेतु प्रधान है। 

आज इस लेख में हम आपको बताएंगे कि कुंडली के अलग-अलग भावों में स्थित होने पर केतु आपके करियर को किस प्रकार प्रभावित कर सकता है और विभिन्न भावों में स्थित होने पर आप किस प्रकार के कार्य क्षेत्रों का चुनाव कर सकते हैं। इसके साथ ही करियर के सही चुनाव के लिए आप कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट का सहारा भी ले सकते हैं।

कुंडली में मौजूद राज योग की समस्त जानकारी पाएं

द्वादश भावों में केतु और करियर से जुड़े फल

प्रथम भाव में केतु  ग्रह का फल

किसी भी जातक की जन्मकुंडली में केतु ग्रह प्रथम भाव में  हो तो  ऐसा जातक किसी व्यापार में या सेवा क्षेत्र में संतोषजनक उपलब्धि हासिल करता है। वह ज्ञानी, तीव्र स्मरण शक्ति वाला, नीतिज्ञ, भाग्यशाली, स्थूल देह वाला तथा चतुर बुद्धि का होता है। केतु शुभ संबंधों में होने पर व्यक्ति किसी राजनीतिज्ञ का गुप्त चर बन कर धन अर्जित करता है।

द्वितीय भाव में केतु  ग्रह का फल

किसी जातक की जन्म कुण्डली के द्वितीय भाव में केतु ग्रह स्थित होता है, तो ऐसा जातक यात्रा क्षेत्र से जुड़े कार्य व अपने माता पिता एवं गुरुजनों का आज्ञाकारी, अनेक प्रकार के व्यवसायों से धन अर्जित करने वाला, वाहन व चौपाय सम्बंधित व्यापार करता है। 

250+ पन्नों की रंगीन कुंडली खोलेगी भविष्य के राज़:  बृहत् कुंडली

तृतीया भाव में केतु  ग्रह का फल

किसी भी जातक की जन्म कुंडली में केतु  ग्रह तृतीय भाव में स्थित हो तो ऐसा जातक किसी भी काम को करने से पहले आलस करता है। आलस के कारण व्यक्ति अपने जीवन में आने वाली बहुत बड़ी सफलता को असफलता में बदल लेता है।  ऐसे व्यक्ति को अपनी बहनों से अर्थ लाभ एवं व्यापार, व्यवसाय वृद्धि संबंधित सलाह व सहयोग दिलवाता है और अंत में ऐसा जातक अपना व्यापार शुरु कर अपनी अच्छी आजीविका प्रारम्भ करता है।

चतुर्थ भाव में केतु  ग्रह का फल

किसी भी जातक की जन्म कुंडली में केतु  ग्रह चतुर्थ भाव में हो तो ऐसा जातक व्यवसाय के माध्यम से धन कमाने वाला, पशु सेवा से लाभ अर्जित करने वाला, धार्मिक कार्यों में रूचि रखने वाला अथवा गायन एवं संगीत कला में रूचि रखने वाला एवं एक अच्छा वक्ता होता है। परन्तु अक्सर व्यक्ति को सुखों से वंचित रखता है। 

जानें अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता – हेल्थ इंडेक्स कैलकुलेटर

पंचम भाव में केतु  ग्रह का फल

जन्म कुंडली के पंचम भाव में केतु  ग्रह स्थित हो तो ऐसा जात  एक अच्छा  राज नेता बन कर समाज का सही ढंग से प्रतिनिधित्व करता है। ऐसा जातक कलात्मक होता है और नाट्य, मनोरंजन, संगीत, नृत्य, शेयर बाजार से जुड़ा कार्य करता है। ऐसा व्यक्ति किसी हॉल का मालिक हो सकता है, जो अलग अलग तरह की पार्टी आयोजित कराता हो।

छठे भाव में केतु ग्रह का फल 

किसी भी जातक की जन्म कुण्डली के छठे भाव में केतु ग्रह स्थित होता है, तो ऐसा जातक एक अच्छा समाज सेवक व न्यायधीश, वकील व अपने व्यवसाय के माध्यम से आजीविका चलाने वाले होता है। परन्तु अक्सर रोग व शत्रुओं से परेशान रहता है। ऐसा व्यक्ति अपनी पढ़ाई में गंभीरता रखता है क्योंकि उसे इसी का लाभ मिलता है। यदि 10 वीं के बाद विषयोंं के चयन से जुड़ी कोई समस्या हो तो आप कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट की मदद भी ले सकते हैं।

सप्तम भाव में केतु ग्रह का फल 

किसी भी जातक की जन्म कुण्डली के सप्तम भाव में केतु ग्रह स्थित होता है, तो ऐसा पाप वृत्ति में लिप्त, अत्यधिक यौनाचार के कारण बीमार और स्वास्थ्य-सम्बन्धी परेशानियों से ग्रस्त होता है। जीवनसाथी अथवा विपरीत लिंगी जातकों द्वारा धन प्राप्त करता है या विदेशी कार्य करता है। ऐसा व्यक्ति पार्टनरशिप में बिजनेस करें तो लाभ उठा सकता है।

कुंडली में मौजूद राज योग की समस्त जानकारी पाएं

अष्टम भाव में केतु ग्रह का फल

किसी भी जातक की जन्म कुंडली में केतु  ग्रह अष्टम भाव में हो तो जातक दुर्बल अथवा पुष्ट शरीर वाला और कभी लाभ और कभी हानि पाने वाला होता है अर्थात इन क्षेत्रों में उतार-चढ़ाव हो सकता है। ऐसा व्यक्ति धन के रहते हुए भी उसका सुख न पाने वाला और पापकर्म कर अपनी आजीविका प्राप्त करने का विचार रखने वाला हो सकता है। ऐसा जातक मित्रों के साथ मिल कर अपना व्यापार या उनके साथ में व्यापार की योजना बनाता है।

नवम भाव में केतु ग्रह का फल

किसी भी जातक की जन्म कुंडली में केतु  ग्रह नवमभाव में हो तो जातक दूसरे के धन का उपयोग करने वाला,  व्यसनों से रहित, धार्मिक प्रवृत्ति वाला, शास्त्रों का ज्ञाता एवं परोपकारी प्रवृत्ति वाला होता है। दूसरों का सहयोग कर अपना जीवन यापन करता है। ऐसा जातक अक्सर दूसरों की भलाई करने वाले कार्य अथवा समाज सेवा और पूजा-पाठ के कामों से जुड़ा हो सकता है।

क्या आपकी कुंडली पर शनि हावी हैं? शनि रिपोर्ट से जाने जवाब 

दशम भाव में केतु ग्रह का फल

जन्म कुंडली के दशम भाव में केतु  ग्रह स्थित हो तो ऐसा जातक परोपकार, धर्मार्थ या सुधारक संस्थान, जेल, शरण और अस्पताल आदि से जुड़ा होता है। इस भाव में बैठे केतु ग्रह के जातक अपराधियों, जासूसों, गुप्त बलों और गुप्त दुश्मनों, भूमिगत जैसे कार्य व  मंत्रालय से जुड़ा कार्य करते हैं ।

अगर आप भी अपने भविष्य के बारे में चिंतित हैं और यह जानना चाहते हैं कि आपके स्कूल के बाद आपको किस करियर या कोर्स को चुनना चाहिए, तो आप कॉग्निएस्ट्रो करियर काउंसलिंग रिपोर्ट की मदद ले सकते हैं और अपने सभी सवालों का सटीक जवाब और उचित समाधान प्राप्त कर सकते हैं।

एकादश भाव में केतु ग्रह का फल

जन्म कुंडली के एकादश भाव में केतु  ग्रह स्थित हो तो ऐसा जातक कार्यो को करने मे कुशल, दूसरों के प्रभाव से अपनी इष्ट-पूर्ति करने वाला, दृढ-निश्चयी लेकिन क्षणिक, नीच स्वभाव का, नीच कर्म करने वाला, कष्ट-सहिष्णु, विपरीत लिंगी जातकों के द्वारा कार्य साधन करने वाला और सट्टेबाजी का काम कर के अपनी आजीविका प्राप्त करता है ।

द्वादश भाव में केतु ग्रह का फल

किसी भी जातक की जन्म कुंडली में केतु ग्रह द्वादश भाव में हो तो ऐसा जातक सामाजिक सेवा करने वाला, उद्योग करते रहने पर भी सिद्धि न पाने वाला,  परिश्रमी, मूर्ख, चिन्तातुर, मतिमन्द, कपटी तथा नीच वृत्ति वाला होता है। ऐसा जातक का अक्सर विदेशी गमन या विदेश से धन प्राप्ति योग बनता है।

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

ऊपर दिए गए विवरण से केवल कार्यक्षेत्र और व्यवसाय के संदर्भ में कुंडली के विभिन्न भावों में केतु की स्थिति पर आधारित सामान्य फल का ज्ञान मिलता है। विशेष फल के लिए कुंडली का विवेचन और देश काल तथा पात्र की स्थिति के अनुसार व्यक्तिगत विश्लेषण करना परम आवश्यक है। इस प्रकार आप जान सकते हैं कि जन्म कुंडली के विभिन्न भावों में स्थित केतु आपके कार्य एवं व्यवसाय को अलग-अलग रूपों में प्रभावित करता है।

कॉग्निएस्ट्रो आपके भविष्य की सर्वश्रेष्ठ मार्गदर्शक

आज के समय में, हर कोई अपने सफल करियर की इच्छा रखता है और प्रसिद्धि के मार्ग पर आगे बढ़ना चाहता है, लेकिन कई बार “सफलता” और “संतुष्टि” को समान रूप से संतुलित करना कठिन हो जाता है। ऐसी परिस्थिति में पेशेवर लोगों के लिये कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट मददगार के रुप में सामने आती है। कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट आपको अपने व्यक्तित्व के प्रकार के बारे में बताती है और इसके आधार पर आपको सर्वश्रेष्ठ करियर विकल्पों का विश्लेषण करती है।

 

इसी तरह, 10 वीं कक्षा के छात्रों के लिए कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट उच्च अध्ययन के लिए अधिक उपयुक्त स्ट्रीम के बारे में एक त्वरित जानकारी देती है।

 

 

जबकि 12 वीं कक्षा के छात्रों के लिए कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट पर्याप्त पाठ्यक्रमों, सर्वश्रेष्ठ कॉलेजों और करियर विकल्पों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराती है।

 

 

Spread the love
पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.