सावन विशेष : जानें इस महीने कौन से कार्य हैं वर्जित और किन कार्यों से मिलेगा शुभ फल

भगवान शिव का प्रिय माह सावन का महीना प्रारम्भ हो चुका है। हिन्दू धर्म के अनुयायियों के बीच सावन को लेकर बहुत आस्था है। इसकी दो खास वजह भी है। पहला ये कि यह महीना चातुर्मास का पहला महीना है और दूसरा ये कि सावन का महीना देवों के देव भगवान महादेव का प्रिय महीना माना गया है। इस महीने में दुनिया भर के महादेव के भक्त भगवान शिव की पूजा-अर्चना करते हैं। 

This image has an empty alt attribute; its file name is vedic-hi-1.gif

जाहिर है कि इस पवित्र महीने के कुछ विशेष नियम भी हैं जिनका पालन करना अनिवार्य माना गया है। ऐसे में आज हम आपको इस लेख में उन कार्यों के बारे में बताने वाले हैं जो सावन के महीने में किए जाने चाहिए और साथ ही उन कार्यों के बारे में भी बताने वाले हैं जिन्हें सावन के महीने में करना निषेध माना गया है। लेकिन उससे पहले सावन से जुड़ी कुछ जरूरी जानकारी आपके साथ साझा कर देते हैं।

सावन माह 2021 कब से कब तक?

सावन का महीना इस वर्ष यानी कि साल 2021 में 25 जुलाई को शुरू हो रहा है और इस पवित्र महीने का समापन 22 अगस्त 2021 को हो जाएगा। इस दौरान कुल चार सोमवार पड़ेंगे। पहला सोमवार व्रत सावन के शुरू होते ही अगले दिन यानी कि 26 जुलाई 2021 को रखा जाएगा। 

आइये अब आपको बता देते हैं कि सावन में वे कौन से कार्य हैं जिन्हें कर के आप भगवान शिव के कृपापात्र बन सकते हैं।

जीवन की दुविधा दूर करने के लिए विद्वान ज्योतिषियों से करें फोन पर बात और चैट

सावन में जरूर करें ये कार्य

  • सावन का महीना भगवान शिव को बहुत प्रिय है ऐसे में इस महीने में भगवान शिव की पूजा-अर्चना करें, उनका ध्यान करें। जब भी भगवान शिव की पूजा करें तो उनका अभिषेक करना न भूलें। इससे विशेष लाभ प्राप्त होगा।
  • इस पवित्र महीने में जब भी समय मिले तब ‘ॐ नमः शिवाय’ का जाप करते हुए भगवान शिव का ध्यान करें। इससे भगवान शिव आप पर अति प्रसन्न होंगे।
  • भगवान शिव को उनकी प्रिय चीजें जैसे कि बेलपत्र, भांग, धतूरा आदि अर्पित करें। भगवान शिव के साथ-साथ माता पार्वती की भी पूजा करें। संध्या में दोनों की आरती करें।
  • सावन में सोमवार का बहुत महत्व है क्योंकि सोमवार का दिन भगवान शिव को विशेष तौर पर समर्पित होता है और सावन में पड़ने वाले सोमवार का महत्व और भी बढ़ जाता है। ऐसे में सावन में पड़ने वाले सोमवार के दिन व्रत रखें। नमक व अन्न ग्रहण न करें। फलाहार पर रहें।
  • यदि आप रुद्राक्ष धारण करने का सोच रहे हैं तो इसके लिए सावन के महीने से बेहतर समय और कोई नहीं होगा। सावन में रुद्राक्ष धारण करना बड़ा मंगलदायक माना जाता है।
  • सावन के महीने में दूध और दूध से बनी चीजें जैसे कि घी, दही आदि का दान करें।
  • घर की साफ-सफाई रखें। रोज स्नान करें और साफ वस्त्र धारण करें।

दिलचस्प वीडियो और पोस्ट के लिए एस्ट्रोसेज इंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें! एक नजर आज की खास पोस्ट पर:

सावन में भूल से भी न करें ये कार्य

  • सावन के महीने में भूल से भी मांस और शराब का सेवन न करें अन्यथा भगवान शिव बहुत कुपित होते हैं।
  • सावन के महीने में शरीर पर तेल से मालिश करना वर्जित माना गया है। अतः ऐसा न करें।
  • इस पवित्र महीने के दौरान दोपहर में सोना खास तौर से वर्जित माना गया है।
  • सावन के महीने में दाढ़ी और बाल न कटवाएँ।
  • सावन के महीने में प्याज और लहसुन जैसे तामसिक भोजनों का त्याग करना चाहिए।
  • कांसे के बर्तन में भोजन करना भी इस महीने में वर्जित माना गया है।
  • कभी भी भगवान शिव को तुलसी के पत्ते न अर्पित करें।

क्या आपकी कुंडली में हैं शुभ योग? जानने के लिए खरीदें एस्ट्रोसेज बृहत् कुंडली

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह लेख जरूर पसंद आया होगा। ऐसे ही और भी लेख के लिए बने रहिए एस्ट्रोसेज के साथ। धन्यवाद !

Astrology

Dharma

विष्णु मंत्र - Vishnu Mantra

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

12 Jyotirlinga - 12 ज्योतिर्लिंग

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र - Kunjika Stotram: दुर्गा जी की कृपा पाने का अचूक उपाय

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

51 Shakti Peeth - 51 शक्तिपीठ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.