वास्तु शास्त्र : जानिए वास्तु दोष को दूर करने के पांच बेहद आसान उपाय

वास्तु शास्त्र हमारे पूर्वजों और साधु-ऋषियों द्वारा तैयार किया गया दिशा के ज्ञान पर आधारित एक ऐसा विज्ञान है जो हमारे जीवन से नकारात्मक ऊर्जा को दूर कर के जीवन को आसान बनाने का कार्य करता है। वास्तु शास्त्र मानता है कि हर दिशा पर किसी न किसी देवता का आधिपत्य है और अगर इस दिशा में कोई गलत वस्तु रखी जाए तो दिशा के स्वामी देवता रुष्ट होते हैं जिसकी वजह से वास्तु दोष उत्पन्न होता है। 

जीवन की दुविधा दूर करने के लिए विद्वान ज्योतिषियों से करें फोन पर बात और चैट

वास्तु शास्त्र के अनुसार हम जहां रहते हैं, काम करते हैं या फिर अपना ज़्यादातर समय गुजारते हैं, वहाँ मौजूद वास्तु दोष हमारे जीवन को नकारात्मक रूप से प्रभावित करने में सक्षम हैं। यही वजह है कि हमें हमेशा ये कोशिश करनी चाहिए कि इन सभी जगहों पर यदि कोई वास्तु दोष हो तो उसका जल्द से जल्द निवारण किया जाए। ऐसे में आज हम आपको इस लेख में वास्तु दोष दूर करने के कुछ आसान उपाय बताने वाले हैं जो आपके लिए काफी लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं।

वास्तु दोष दूर करने के आसान उपाय

पहला उपाय : यदि आपके घर में कोई वास्तु दोष मौजूद है और आप बिना कोई भारी बदलाव किए इसे खत्म करना चाहते हैं तो घर के दक्षिण-पूर्व दिशा में एक मिट्टी के बर्तन में पानी भरकर रख दें। इससे घर का वास्तु दोष दूर होता है। घर में नकारात्मक ऊर्जा खत्म करने के लिए आप पोछा लगाने के पानी में नमक या फिटकरी मिलाया करें। नमक व फिटकरी को नकारात्मक ऊर्जा का दुश्मन माना जाता है।

दूसरा उपाय : घर की उत्तर-पश्चिम दिशा को वायव्य कोण कहते हैं। इस पर वायु देवता का आधिपत्य होता है। घर में मौजूद वास्तु दोष को खत्म करने के लिए इस दिशा में पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था करें। वायव्य कोण यदि रोशनी से भरपूर रहे तो वास्तु दोष खत्म होता है। आप प्रत्येक शाम को इस कोण में एक दीपक भी जला सकते हैं। इस कोण में कबाड़ या टूटे-फूटे सामान न रखें।

तीसरा उपाय : स्वास्तिक को सनातन धर्म में शुभता का प्रतीक माना गया है। सनातन धर्म में लगभग हर नए व शुभ कार्य में स्वास्तिक के चिन्ह का इस्तेमाल करने की परंपरा रही है। स्वास्तिक का निशान वास्तु दोष दूर करने में भी अत्यंत सहायक है। वास्तु शास्त्र के अनुसार यदि घर के मुख्य द्वार पर रोली चंदन से स्वस्तिक का चिन्ह बना दिया जाए तो उस घर के वास्तु दोष खत्म हो जाते हैं। 

चौथा उपाय : घर के मुख्य द्वार का वास्तु दोष को दूर करने में अहम योगदान रहता है। घर के मुख्य द्वार यदि रोज शाम को दीपक जलाया जाए तो उस घर के वास्तु दोष दूर होते हैं। इसके अलावा यदि आपकी आर्थिक स्थिति न ठीक हो तो घर के मुख्य द्वार पर रात को एक लोटे में पानी रख कर छोड़ दें और सुबह उठकर इस पानी को नाले में फेंक दें। इससे आर्थिक स्थिति में सुधार आता है। वहीं घर का मुख्य दरवाजा यदि लकड़ी का हो तो सबसे उत्तम फल देता है। मुख्य द्वार पर सूरजमुखी के फूल की तस्वीर लगाने से भी वास्तु दोष दूर होता है।

पांचवा उपाय : घर के दक्षिण-पश्चिम को नैऋत्य कोण कहते हैं। इस कोण पर निरुती या पूतना का आधिपत्य माना गया है। ऐसे में रोज शाम को नैऋत्य कोण में दीपक जलाने से घर के वास्तु दोष समाप्त होते हैं।

ये भी पढ़ें : वास्तु विशेष : कपूर के इन आसान वास्तु उपायों से दूर होगी जीवन की हर समस्या

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह लेख जरूर पसंद आया होगा। ऐसे ही और भी लेख के लिए बने रहिए एस्ट्रोसेज के साथ। धन्यवाद !

Dharma

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

बजरंग बाण की हिन्दू धर्म में बहुत मान्यता है। हनुमान जी को एक ऐसे देवता के रूप में ...

51 शक्तिपीठ जो माँ सती के शरीर के भिन्न-भिन्न अंगों के हैं प्रतीक

भारतीय उप महाद्वीप में माँ सती के 51 शक्तिपीठ हैं। ये शक्तिपीठ माँ के भिन्न-भिन्न अंगों और उनके ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र (Kunjika Stotram) से पाएँ दुर्गा जी की कृपा

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र एक ऐसा दुर्लभ उपाय है जिसके पाठ के द्वारा कोई भी व्यक्ति पराम्बा देवी भगवती ...

12 ज्योतिर्लिंग: शिव को समर्पित हिन्दू आस्था के प्रमुख धार्मिक केन्द्र

12 ज्योतिर्लिंग, हिन्दू आस्था के बड़े केन्द्र हैं, जो समूचे भारत में फैले हुए हैं। जहाँ उत्तर में ...

दुर्गा देवी की स्तुति से मिटते हैं सारे कष्ट और मिलता है माँ भगवती का आशीर्वाद

दुर्गा स्तुति, माँ दुर्गा की आराधना के लिए की जाती है। हिन्दू धर्म में दुर्गा जी की पूजा ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *