चैत्र नवरात्रि 13 अप्रैल 2021: माता रानी को करना है प्रसन्न तो करें ये काम !

नवरात्रि साल में 5 बार आती हैं। जिसमें यह दो , चैत्र नवरात्रिशारदीय नवरात्रि , प्रमुख रूप से पूरे देश में बड़ी श्रद्धा भाव के साथ मनाई जाती है । इस साल चैत्र नवरात्रि 13 अप्रैल, 2021 से प्रारंभ होकर 21 अप्रैल, 2021 तक मनाई जाएगी। 9 दिन के इस पर्व में पूरा वातावरण मां दुर्गा के आशीष से जगमगा उठता है। पूरा समां पवित्र मोहक सुगंध व घंटियों की ध्वनि से शुद्ध होकर सकारात्मक ऊर्जा से भर जाता है ।

  आज हम इस लेख के ज़रिये जानेंगे कि चैत्र नवरात्रि के 9 दिन वास्तु ज्योतिष के अनुसार क्या करना चाहिए और किन कार्यों का करना माना जाता है निषेध :  

  • चैत्र नवरात्रि में सर्वप्रथम मंदिर की दिशा पूर्व-उत्तर या उत्तर-पूर्व होना श्रेष्ठ होता है। पूजा करते समय हमारा मुंह पूर्व दिशा की तरफ हो तो श्रेष्ठ होगा।
  • मंदिर की धुलाई सफाई स्वच्छतापूर्वक करें।
  • मुख्य द्वार के दोनों तरफ हल्दी, चूना या रोली के स्वास्तिक चिन्ह अंकित करें ।
  • हल्दी से बना स्वास्तिक चिन्ह हमारे गुरु ग्रह को शुद्ध करता है। साथ ही यह कीटाणु रोधक का भी काम करता है ।
  • चूना हमारे चंद्र ग्रह को शुद्ध कर हमे हमारे मानसिक विकारों से मुक्ति दिलाता हैं।
  • रोली से बना स्वास्तिक चिन्ह हमारे शुक्र व सूर्य ग्रह को शोधित कर हमारे जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करता है।

बृहत् कुंडली : जानें ग्रहों का आपके जीवन पर प्रभाव और उपाय

  • मां की प्रतिमा चंदन की चौकी पर स्थापित करें। चंदन की गंघ से वातावरण विषाणु मुक्त हो जाता है। अतः यह वातावरण शुद्धि प्रदायक है। आंतरिक रूप से चंदन की गंध तनाव को नष्ट करने वाली होती है। जो कि हमारे मनोभावों में एकाग्रता शक्ति बढ़ाने का कार्य करती हैं।  किसी भी तरह के अपवित्र स्पंदनो को नष्ट करने में चंदन की गंध सहायक होती है ।
  • चंदन की चौकी ना हो तो आप चांदी की चौकी का भी प्रयोग कर सकते हैं। चांदी की चौकी पर विराजी मां हमारे चंद्र यानी हमारे मन की शुद्धि करती हैं।
  • चौकी पर लाल कपड़ा बिछाया जाता है। लाल रंग ऊर्जा शक्ति व विकास का प्रतीक है, जो कि हमारी कार्य क्षमता में वृद्धि प्रदान करता है। साथ ही लाल रंग सौभाग्य का भी प्रतीक माना जाता है।
  • चैत्र नवरात्रि की पूजा के लिए मां की प्रतिमा बहुत अधिक बड़ी ना हो इस बात का ध्यान रखें। मां की प्रतिमा को रसोई घर में ना स्थापित करें। प्रतिमा को इस तरह विराजित करें कि पूजा करते समय हमारा मुख पूर्व दिशा की तरफ हो।

विद्वान ज्योतिषियों से करें फ़ोन पर बात  और जानें चैत्र नवरात्रि से जुड़ी संपूर्ण जानकारी

  • कलश मंदिर की उत्तर पूर्व दिशा में स्थापित करें। कलश में सुपारी व सिक्का डालकर जल से भर दें ।
  • मिट्टी का कलश सर्वश्रेष्ठ होता है। मिट्टी के प्रयोग से हमारे बुध ग्रह शुद्ध होते हैं। जो हमारे जीवन में बुद्धि का कारक है ।
  • सोने या पीतल के कलश के प्रयोग से हमारे गुरु ग्रह शुद्ध होते हैं। जो हमारे ज्ञान व विवेक का विस्तार करते हैं।
  • चांदी का कलश भी शुभ फल देता है। चांदी मानसिक शांति व सुख प्रदायक होती है।
  • इसके अतिरिक्त अन्य पदार्थ से बना कला कलश कदापि ना प्रयोग करें।
  • कलश पर अशोक के पत्ते शुभ गिनतियो में रखें जैसे 9, 11, 21 आदि। अशोक शोक को हरने वाला पौधा है। जिसकी पत्तियों का प्रयोग हमारे जीवन में आने वाली विपदाओं को नष्ट करती हैं। इसके बाद जटादार नारियल कलावा बांधकर कलश के ऊपर रखे। मां के समक्ष अपनी सारी विपदा को दूर करने व मनोकामना को पूर्ण करने की प्रार्थना करें। साथ ही जो व्रत संकल्प आप करना चाहते हैं वह कलश स्थापना के समय ही निर्धारित करें। उसे पूर्ण होने का मां से आशीर्वाद प्राप्त करें।
  • चैत्र नवरात्रि के दौरान अखंड दीपक मंदिर के अग्नि कोण दिशा में प्रज्जवलित करें। शुद्ध घी में थोड़ा कपूर डालकर दीप जलाएं। ऐसा करने से हमारे शुक्र ग्रह का शोधन होकर, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।

कुंडली में मौजूद राज योग की समस्त जानकारी पाएं

  • अखंड दीपक ना जला पाएँ तो पूरे चैत्र नवरात्रि सुबह व शाम दीपक अवश्य जलाएं।
  • किसी भी मंदिर में बल्ब का दान करें। इससे आपके राहु ग्रह शुद्ध होंगे और जीवन में आ रही विपरीत परिस्थितियों से विजय प्राप्त होगी, साथ ही दुर्घटना आदि से बचाव होगा ।
  • नवरात्रि पूजन के समय मंदिरों में स्त्रियां हमेशा बाल बांधकर जाएं। बिखरे बाल शनि ग्रह के दुष्प्रभाव को आमंत्रित करते हैं, जो जीवन को कष्टदायक बनाते हैं। इसलिए ऐसा करने से बचें।
  • इतने क्रिया कर्म ना भी कर पाएँ तो पूरे नवरात्र शुद्ध मन से संकल्प करें की किसी का दिल ना दुखाएँ। किसी गरीब का अपमान ना करें, यही सबसे बड़ी पूजा है।

आप सभी को चैत्र नवरात्रि की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। मां दुर्गा आपकी हर विपदा दूर कर ,आपके जीवन को खुशियों से भर दे। यही हमारी कामना है।

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

आशा करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Spread the love

Astrology

Dharma

विष्णु मंत्र - Vishnu Mantra

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

12 Jyotirlinga - 12 ज्योतिर्लिंग

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र - Kunjika Stotram: दुर्गा जी की कृपा पाने का अचूक उपाय

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

51 Shakti Peeth - 51 शक्तिपीठ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.