जानें चातुर्मास में आपको क्या करना चाहिए और किन कामों को करने से बचना चाहिए !

आने वाले 12 जुलाई से देवशयनी एकादशी के बाद चातुर्मास प्रारंभ हो जाएंगे और इसके साथ ही अगले चार महीनों तक किसी भी शुभ कार्य को करने की मनाही होगी। यहाँ हम आपको चातुर्मास के दौरान किये जाने वाले और नहीं किये जाने वाले कार्यों के बारे में बताने जा रहे हैं। इसके साथ ही बताएंगे आपको चातुर्मास के विशेष महत्व के बारे में।

चातुर्मास के दौरान क्या करें

ऐसी मान्यता है कि यदि चातुर्मास के दौरान कुछ ख़ास नियमों का पालन किया जाए तो इससे आपको अश्वमेध यज्ञ के बराबर लाभ मिलता है। आईये देखें कौन से हैं वो ख़ास कार्य जिन्हें चातुर्मास के दौरान जरूर करना चाहिए।

  • इस दौरान भगवान विष्णु की विधिवत रूप से प्रतिदिन पूजा अर्चना करें।
  • विशेष फलप्राप्ति के लिए इस दौरान ब्रह्मचर्य का पालन करना महत्वपूर्ण माना जाता है।
  • चातुर्मास में गरीब ब्राह्मणों को सोने चांदी और पीले रंग की वस्तुओं का दान करना चाहिए।
  • प्रतिदिन विष्णु जी का मनन करें और उन्हें कमल का फूल चढ़ाएं।
  • चातुर्मास के दौरान शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए गाय का घी और दूध, दही इत्यादि का सेवन करें।
  • चातुर्मास के दौरान खासतौर से श्री हरी मंदिर में दीपदान करना चाहिए।

चातुर्मास के दौरान ना करें ये काम

बेशक चातुर्मास के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है लेकिन इस दौरान यदि आप कुछ कार्यों को करने से बचते हैं तो आप विशेष लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस दौरान भूलकर भी ना करें इन कामों को।

  • चातुर्मास के दौरान मांस, मछली और शराब इत्यादि का सेवन ना करें।
  • इस दौरान पलंग पर सोने के बजाय नीचे जमीन पर बिस्तर लगाकर सोएं।
  • भोजन के लिए कांसे के बर्तन का प्रयोग ना करें।
  • ऐसी मान्यता है कि चातुर्मास के दौरान शरीर के किसी भी हिस्से पर तेल नहीं लगाना चाहिए।
  • किसी के लिए अपशब्दों का प्रयोग न करें और ना ही किसी की पीठ पीछे बुराई करें।
  • भूलकर भी चातुर्मास के दौरान कोई भी मांगलिक या शुभ काम ना करें।
  • किसी प्रकार के तैलीय भोज्य पदार्थों का सेवन ना करें।

चातुर्मास का धार्मिक महत्व

ऐसी मान्यता है कि चातुर्मास में भगवान् विष्णु चार महीनों तक क्षीर सागर में निंद्रा की अवस्था में आराम करते हैं। वो नींद से शुक्ल पक्ष की देवउठनी एकादशी के दिन नींद से जागते हैं। ऐसी मान्यता है कि चार महीनों तक भगवान् विष्णु के निंद्रा अवस्था में होने की वजह से सकारात्मक शक्तियां निर्बल हो जाती हैं और इसलिए किसी मांगलिक कार्य जैसे की विवाह, उपनयन संस्कार, गृह प्रवेश आदि जैसे शुभ कार्य नहीं किये जाते हैं। इस दौरान सकारात्मक शक्तियों को सबल बनाये रखने के लिए विशेष हवन और यज्ञ आदि करवाने का भी प्रावधान है।

Dharma

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

बजरंग बाण की हिन्दू धर्म में बहुत मान्यता है। हनुमान जी को एक ऐसे देवता के रूप में ...

51 शक्तिपीठ जो माँ सती के शरीर के भिन्न-भिन्न अंगों के हैं प्रतीक

भारतीय उप महाद्वीप में माँ सती के 51 शक्तिपीठ हैं। ये शक्तिपीठ माँ के भिन्न-भिन्न अंगों और उनके ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र (Kunjika Stotram) से पाएँ दुर्गा जी की कृपा

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र एक ऐसा दुर्लभ उपाय है जिसके पाठ के द्वारा कोई भी व्यक्ति पराम्बा देवी भगवती ...

12 ज्योतिर्लिंग: शिव को समर्पित हिन्दू आस्था के प्रमुख धार्मिक केन्द्र

12 ज्योतिर्लिंग, हिन्दू आस्था के बड़े केन्द्र हैं, जो समूचे भारत में फैले हुए हैं। जहाँ उत्तर में ...

दुर्गा देवी की स्तुति से मिटते हैं सारे कष्ट और मिलता है माँ भगवती का आशीर्वाद

दुर्गा स्तुति, माँ दुर्गा की आराधना के लिए की जाती है। हिन्दू धर्म में दुर्गा जी की पूजा ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *