काश ! कॉग्निएस्ट्रो मुझे पहले मिली होती !

दोस्तों, सबसे पहले अपने बारे में संक्षिप्त परिचय। मेरा नाम पीयूष पांडे है। पेशे से जर्नलिस्ट हूं। बीते 20 साल से मीडिया में हूं और टाइम्स ऑफ इंडिया से लेकर आजतक, ज़ी न्यूज, एबीपी न्यूज, नेटवर्क-18 और सहारा समय जैसे कई बड़े मीडिया संस्थानों में वरिष्ठ पदों पर काम किया है। ‘ब्लू माउंटेंस’ फिल्म में एसोसिएट डायरेक्टर रहा। स्टार प्लस पर जल्द प्रसारित होने वाले सीरियल ‘महाराज की जय हो’ के कई एपिसोड लिखे हैं। हाल में तीसरा व्यंग्य संग्रह ‘कबीरा बैठा डिबेट में’ प्रकाशित हुआ है। इसके अलावा, कई अखबारों में मैं नियमित स्तंभ लिख रहा हूं।

मेरा संक्षिप्त प्रोफेशनल सीवी सिर्फ यह बताने के लिए कि मीडिया में मुझे पर्याप्त सफलता मिली है। लेकिन, अगर मैं कहूं कि यह भविष्यवाणी मेरे चाचा ने उस वक्त कर दी थी, जब मैं आठवीं क्लास में था तो शायद आप चौंकेंगे। मुझे याद है कि दिवाली का दिन था। मेरे चाचा ने मुझसे पूछा-बड़े होकर क्या बनना है? मैंने जवाब दिया-आईएएस अधिकारी। दरअसल, उस वक्त मैंने किसी से सुना था कि आईएएस बहुत बड़ा आदमी होता है। चाचा ने मेरी कुंडली बनाई। ये बात 1990-91 की है। और उस कुंडली पर कैलकुलेशन करते हुए पहले करियर संबंधी तीन-चार क्षेत्र चुने और फिर उसी के नीचे साफ-साफ लिखा-COMMUNICATION, COMPUTER, WRITER AND POLITICS

इस कुंडली को आप चित्र में देख सकते हैं।

paper chart

जन्मपत्री का कागज कुछ हद तक फट चुका है। थोड़ा पीला पड़ चुका है। लेकिन मैंने इसे संभालकर रखा है। और लगभग 30 साल पहले बनी ये कुंडली मेरा ज्योतिष में विश्वास मजबूत करती है क्योंकि 8वीं क्लास के बच्चे को यह बताना कि वो पत्रकारिता, लेखन और कंप्यूटर से जुड़े क्षेत्र में करियर बनाएगा-आसान नहीं है। खासकर तब, जब मैंने कंप्यूटर देखा तक नहीं था, और ना पत्रकारिता का एबीसीडी मालूम था। दिलचस्प यह कि मुख्यधारा की पत्रकारिता में भी मेरा पदार्पण 2001 में नवभारत टाइम्स ऑनलाइन की लॉन्चिंग के साथ हुआ। यानी पत्रकारिता की शुरुआत इंटरनेट पत्रकारिता के साथ हुई।

सिर्फ जानकारी के लिए यह भी बता दूं कि मैंने जर्नलिज्म और कंप्यूटर साइंस एंड मैनेजमेंट दोनों में मास्टर्स डिग्री ली है।

अजीब बात यह कि इस भविष्यवाणी के बावजूद 11वीं में मैंने आर्ट्स स्ट्रीम नहीं ली। सामाजिक दबाव में मैंने पीसीएम स्ट्रीम चुनी। 12वीं पास भी कर ली। 12वीं के बाद आगरा के सेंट जॉन्स कॉलेज में एडमिशन की जिद में मेरा एक साल ड्रॉप हो गया। ये वो वक्त था, जब महज 16-17 साल की उम्र में मैंने अपना पहला लेख लिखा। अपना पहला लेख ही एडिटोरियल पेज पर छपा देखकर मैंने तय कर लिया कि मैं जर्नलिस्ट बनूंगा।

हालांकि, मन भटनके के दौर में मैंने कभी एमबीए करने की योजना बनाई तो कभी कंप्यूटर प्रोग्रामर बनने की दिशा में सोचा। इस कड़ी में कंप्यूटर्स में मास्टर्स डिग्री भी ली। लेकिन, मास्टर ऑफ इन्फोरमेशन टेक्नोलॉजी,मैनेजमैंट कोर्स का तीसरा सेमेस्टर आते आते मुझे समझ आ गया कि मैं सिर्फ एक ही काम अच्छा कर सकता हूं, और वो है लिखना। मैंने कोर्स के दौरान ही आगरा अमर उजाला ज्वाइन कर लिया।

यह पूरी कहानी सुनाने की वजह है कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट। एस्ट्रोसेज ने करियर काउंसलिंग की दिशा में अनूठा प्रयोग करते हुए कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट तैयार की है। मनोविज्ञान के लोकप्रिय राइजेक सिद्धांतों का ज्योतिष में इस्तेमाल करते हुए यह रिपोर्ट जन्म विवरण के आधार पर आपका व्यक्तित्व प्रकार बताती है। इसके बाद 10वीं के छात्र को 11वीं में स्ट्रीम चयन का सुझाव देती है। कॉग्निएस्ट्रो की प्रोफेशनल रिपोर्ट यह भी बताती है कि व्यक्ति के लिए कौन सा करियर ऐसा होगा, जिसमें सफलता और संतुष्टि दोनों मिले। अब आप मेरी यह कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट के कुछ मुख्य पेज देख लीजिए।

Screenshot_20200205-162332_Drive

कॉग्निएस्ट्रो की रिपोर्ट बता रही है कि मेरा व्यक्तित्व आर्टिस्टिक कैटेगरी का है। दूसरे नंबर पर सोशल है। और यह बात शत प्रतिशत सटीक है। इसके बाद करियर की फील्ड बताते हुए रिपोर्ट सलाह दे रही है कि मेरे लिए सबसे अच्छी फील्ड मीडिया एंड इंटरटेनमेंट है। इसके बाद आर्ट, डिजाइन एंड लिटरेरी का नंबर है। इन दोनों फील्ड से संबंधित करियर पर भी गौर फरमाइए। इन्हीं फील्ड में मैं आज सक्रिय हूं, सफल हूं और संतुष्ट भी।

Screenshot_20200205-162403_Drive

आज मैं सोच रहा हूं कि काश ये रिपोर्ट मुझे पहले मिली होती। तो जिन दो साल मैंने पीसीएम की पढ़ाई की और तनाव में रहा, उन दिनों मैं इतिहास, अर्थशास्त्र और इंग्लिश जैसे विषय पढ़ता, जो आने वाले दिनों में मेरे संभावित करियर में मुझे मदद करते। कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट मुझे पहले मिली होती तो मैं जिन दिनों एमबीए करने की सोच रहा था, वो नहीं सोचता। कंप्यूटर्स में मास्टर डिग्री लेकर प्रोग्रामर बनने का ख्याल ना पालता। बजाय इसके मैं कोशिश करता कि मैं विदेश के किसी बड़े इंस्टीट्यूट से पत्रकारिता की डिग्री लेता या फिल्म मेकिंग की। मैंने काफी समय और पैसा उन विषयों को पढ़ने में बर्बाद किया, जिनके बजाय अपने पसंदीदा विषय पढ़ता तो शायद मैं तकनीकी रुप से और ज्यादा कुशल होता।

Screenshot_20200205-162446_Drive

मैं सिर्फ यह बताना चाहता हूं कि ज्योतिष के जरिए करियर की भविष्यवाणी संभव है। सितारों के आइने में बच्चों को ऐसे करियर की सलाह दी जा सकती है, जिसमें उन्हें सफलता भी मिले और संतुष्टि भी। वरना, चेतन भगत जैसे सैकड़ों उदाहरण हमारे सामने हैं, जिन्होंने पढ़ाई किसी और विषय में की लेकिन सफलता-संतुष्ट किसी दूसरे ही करियर में मिली।

कॉग्निएस्ट्रो छात्रों और प्रोफेशनल्स की उलझन को दूर करने का बेहतरीन उपाय है। पूरी रिपोर्ट कैसी है-इसे आप यहां देख सकते हैं।

विभिन्न सैंपल रिपोर्ट देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

कोग्निएस्ट्रो करियर परामर्श रिपोर्ट (ग्रेड 10)

कोग्निएस्ट्रो करियर परामर्श रिपोर्ट (ग्रेड 12)

कोग्निएस्ट्रो परामर्श रिपोर्ट (प्रोफेशनल)

ज्योतिष के kabira जरिए करियर संबंधी भविष्यवाणियां संभव है, और मेरे पास इस बात को यकीन करने के लिए कई उदाहरण हैं। मैं पत्रकारिता में आने के बाद से किताब लिखने की सोच रहा था, लेकिन संभव नहीं हो रहा था। एक दिन मेरे ज्योतिषी मित्र ने कहा कि शुक्र की दशा आने पर किताब लेखन मुमकिन होगा। 2011 में शुक्र की महादशा आई तो मेरा पहला व्यंग्य संग्रह प्रकाशित हुआ। और अब हाल में तीसरा व्यंग्य संग्रह। इस व्यंग्य संग्रह के विषय में और अधिक जानकारी आप यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

कुल मिलाकर अगर आप बच्चों के करियर, उनकी पढ़ाई लिखाई की वजह से तनाव में हैं, और उन्हें भी तनाव में रखते हैं तो कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट आपकी कई समस्याओं का समाधान कर सकती है। यकीन जानिए, जिस काम में मन लगता है, उसमें कामयाबी का अपना मजा है।

Spread the love
पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.