बुध का मेष राशि में गोचर: ग्रहों के राजकुमार अब थामेंगे देश की कमान!

बुध का मेष राशि में गोचर: एस्ट्रोसेज का यह विशेष ब्लॉग आपको बुध का मेष राशि में गोचर के बारे में समस्त जानकारी प्रदान करेगा जैसे तिथि और समय आदि। ग्रहों की स्थिति और चाल में परिवर्तन का प्रभाव हमारे जीवन के हर क्षेत्र पर पड़ता है। ऐसे में, बुध अब अपनी राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं और इसका असर देश-दुनिया पर भी निश्चित रूप से देखने को मिल सकता है। एक तरफ जहां विज्ञान में बुध सबसे छोटा और तेज़ गति से चलने वाला ग्रह है। वहीं, ज्योतिष में बुध को बुद्धिमान और जिज्ञासु ग्रह माना गया है जो व्यक्ति की बात करने की क्षमता को प्रभावित करने में सक्षम होता है। इसकी स्थिति कुंडली में नकारात्मक होने पर जातक को वाणी और स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ता है।     

Varta Astrologers

भविष्य से जुड़ी किसी भी समस्या का समाधान मिलेगा विद्वान ज्योतिषियों से बात करके 

इस ब्लॉग में हम 31 मार्च 2023 को मेष राशि में होने वाले बुध के गोचर के बारे चर्चा करेंगे। साथ ही जानेंगे, बुध गोचर का मनुष्य जीवन समेत विश्व पर कैसा प्रभाव पड़ेगा और किन उपायों को अपनाकर आप बुध के अशुभ प्रभावों से बच सकते हैं।

बुध का मेष राशि में गोचर: तिथि और समय 

ज्योतिष शास्त्र में बुध 28 दिनों के अंतराल पर एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करते हैं और जो अब 31 मार्च 2023 को दोपहर 02 बजकर 44 मिनट पर मेष राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। अब हम आगे बढ़ते हैं और जानते हैं बुध का मेष राशि में गोचर संसार को कैसे प्रभावित करेगा।  

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

 यह भी पढ़ें:  राशिफल 2023

बुध का मेष राशि में गोचर: भारत पर प्रभाव

  • इस अवधि के दौरान कई बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियां भारत में निवेश कर सकती हैं जिससे देश में रोज़गार को बढ़ावा मिलेगा। 
  • भारत से काफ़ी संख्या में छात्र इस अवधि में शिक्षा हासिल करने के उद्देश्य से विदेश जाएंगे।
  • बुध गोचर के समय लोगों का झुकाव अध्यात्म की तरफ होगा और ज्यादातर लोग धर्म-कर्म के कार्य करते दिखाएंगे। 
  • संभव है कि सरकार बुद्धिमता से फैसले लेने में सक्षम न हो और इसके परिणामस्वरूप, देश के नेता कुछ ऐसे निर्णय ले सकते हैं जिससे उन्हें ज्यादा अच्छे परिणाम प्राप्त नहीं होने की आशंका है। 
  • कुछ देश भारत के लिए समस्याएं पैदा करने की कोशिश कर सकते हैं लेकिन हम उसका डटकर सामना करने में सक्षम होंगे।
  • इस दौरान निर्यात से जुड़ा व्यवसाय करने वाले लोगों का बिज़नेस फलता-फूलता दिखेगा। लेकिन इन्हें विदेश से धन प्राप्त होने में थोड़ी देरी हो सकती है। 
  • बुध गोचर की अवधि में सट्टे बाजार से संबंध रखने वाले लोगों को कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए सावधान रहें।     
  • कलाकार, चित्रकार, मूर्तिकार, संगीत निर्देशक आदि के लिए यह समय फलदायी साबित होगा। 
  • भारत में बनाए गए म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट्स विदेश में नाम कमाएंगे और ऐसे में, दुनियाभर में इनकी मांग में वृद्धि देखने को मिल सकती है। 
  • भारत में रचनात्मक क्षेत्रों में उछाल आने की संभावना है। 

पाएं अपनी कुंडली आधारित सटीक शनि रिपोर्ट

बुध गोचर के दौरान इन उपायों को जरूर आज़माएं  

  • बुध यंत्र की स्थापना करें और उसका पूजन करें। 
  • छोटे बच्चों का आशीर्वाद लें। 
  • बुध ग्रह के लिए हवन करें। 
  • गाय को हरा चारा खिलाएं। 
  • ट्रांसजेंडर समुदाय को दान करें। 

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

इसी आशा के साथ कि, आपको यह लेख भी पसंद आया होगा एस्ट्रोसेज के साथ बने रहने के लिए हम आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करते हैं।

Dharma

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

बजरंग बाण की हिन्दू धर्म में बहुत मान्यता है। हनुमान जी को एक ऐसे देवता के रूप में ...

51 शक्तिपीठ जो माँ सती के शरीर के भिन्न-भिन्न अंगों के हैं प्रतीक

भारतीय उप महाद्वीप में माँ सती के 51 शक्तिपीठ हैं। ये शक्तिपीठ माँ के भिन्न-भिन्न अंगों और उनके ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र (Kunjika Stotram) से पाएँ दुर्गा जी की कृपा

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र एक ऐसा दुर्लभ उपाय है जिसके पाठ के द्वारा कोई भी व्यक्ति पराम्बा देवी भगवती ...

12 ज्योतिर्लिंग: शिव को समर्पित हिन्दू आस्था के प्रमुख धार्मिक केन्द्र

12 ज्योतिर्लिंग, हिन्दू आस्था के बड़े केन्द्र हैं, जो समूचे भारत में फैले हुए हैं। जहाँ उत्तर में ...

दुर्गा देवी की स्तुति से मिटते हैं सारे कष्ट और मिलता है माँ भगवती का आशीर्वाद

दुर्गा स्तुति, माँ दुर्गा की आराधना के लिए की जाती है। हिन्दू धर्म में दुर्गा जी की पूजा ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *