आज का पंचांग 31 अक्टूबर: जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

आज 31 अक्टूबर 2019 के पंचांग के बारे में यहाँ हम आपको बताने जा रहे हैं। यहाँ आपको आज  के शुभ मुहूर्त, राहुकाल, नक्षत्र, करण, वार, सूर्योदय का समय, सूर्यास्त का समय, चंद्रोदय का समय, चन्द्रास्त का समय आदि के बारे में विस्तृत जानकारी दे रहे हैं। आइये जानते हैं आज के पंचांग में क्या है महत्वपूर्ण। 

पंचांग क्या है ?

पंचांग संस्कृत के एक शब्द पञ्चाङ्गम लिया गया है। इसका अर्थ है पांच भागों से बनी कोई चीज़। पंचांग भी प्रमुख रूप से पांच भागों से बना है जो है वार, तिथि, योग, नक्षत्र और करण। इसके अलावा आप पंचांग की मदद से पक्ष, ऋतु और माह की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। दैनिक पंचांग की मदद से आप खासतौर से किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले उस दिन के शुभ समय के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। ऐसा कर आप किसी भी काम में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। 

आज  का पंचांग 

आज  की तिथि : चतुर्थी – 25:03:37 तक

आज  का नक्षत्र : ज्येष्ठा – 21:31:52 तक

आज  का करण : वणिज – 13:27:37 तक, विष्टि – 25:03:37 तक

आज  का पक्ष : शुक्ल

आज  का योग: शोभन – 09:41:14 तक

आज  का वार : गुरूवार

आज  सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय

सूर्योदय का समय : 06:32:01

सूर्यास्त का समय : 17:37:16

चंद्रोदय का समय: 09:39:00

चंद्रास्त का समय : 20:22:59

चंद्र राशि : वृश्चिक – 21:31:52 तक

ऋतु : हेमंत

हिंदू महीने और साल

शक सम्वत : 1941 विकारी

विक्रम सम्वत : 2076

काली सम्वत : 5121

दिन काल : 11:05:14

मास अमांत : कार्तिक

मास पूर्णिमांत : कार्तिक

शुभ मुहूर्त : 11:42:28 से 12:26:49 तक

आज  का अशुभ मुहूर्त

दुष्टमुहूर्त: 10:13:46 से 10:58:07 तक, 14:39:52 से 15:24:13 तक

कुलिक: 10:13:46 से 10:58:07 तक

कंटक: 14:39:52 से 15:24:13 तक

राहु काल: 13:27:48 से 14:50:57 तक

कालवेला / अर्द्धयाम: 16:08:34 से 16:52:55 तक

यमघण्ट: 07:16:22 से 08:00:43 तक

यमगण्ड: 06:32:01 से 07:55:11 तक

गुलिक काल: 09:18:20 से 10:41:29 तक

Spread the love
पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.