27 फरवरी तक शुक्र-मंगल की अनोखी युति, इन 5 राशियों के लिए बनाएगी धन लाभ का प्रबल योग।

जनवरी के मध्य में 16 जनवरी 2022, रविवार को दोपहर 3 बजकर 26 मिनट पर लाल ग्रह मंगल ने धनु राशि में अपना गोचर किया था। जो वहां इसी अवस्था में 16 फरवरी तक रहेंगे और उसके बाद अपना राशि परिवर्तन कर जाएंगे। ऐसे में अब भौतिक सुखों के देवता शुक्र ग्रह भी 29 जनवरी 2022, शनिवार को दोपहर 2 बजकर 55 मिनट पर धनु राशि में मार्गी अवस्था में प्रवेश करते हुए वहां पहले से मौजूद मंगल ग्रह के साथ युति करेंगे। शुक्र भी 27 फरवरी तक इसी राशि में रहेंगे फिर उसके बाद अपना पुनः गोचर करते हुए स्थान परिवर्तन कर जाएंगे। 

शुक्र-मंगल की अनोखी युति बनाएगी धन योग 

ज्योतिष अनुसार मेष व वृश्चिक राशि के स्वामी ग्रह मंगल का राशि परिवर्तन सभी राशियों के लिए काफी महत्वपूर्ण रहता है और अब उनके साथ वृषभ व तुला राशि के स्वामी शुक्र का युति करना विशेषज्ञों के अनुसार मुख्य रूप से 5 राशियों के जीवन में कई शुभ बदलाव लेकर आने के योग बनाएगा। क्योंकि ग्रहों की ये युति कुछ जातकों की राशि में धन लाभ के प्रबल योग का निर्माण करेगी। तो चलिए अब बिना देर किये जानते हैं आखिर किन 5 राशि वालों को मिलेंगे विशेष लाभकारी परिणाम-

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा 

मेष राशि

धनु राशि में मंगल और शुक्र की युति मेष राशि वालों के लिए शुभ फलदायी साबित होगी। क्योंकि मंगल इनके स्वामी ग्रह होते हैं। ऐसे में शुक्र के साथ मंगल की युति भाग्य यानी नवम भाव में होने से आपकी छवि में सुधार देखने को मिलेगा और इससे आपके मान-सम्मान में वृद्धि भी संभव है। इस अवधि में आप अपने करियर में नए अवसर प्राप्त करते हुए अपनी आमदनी में बढ़ोतरी कर सकेंगे। साथ ही व्यापार से जुड़े जातकों को भी शुक्र-मंगल के प्रभाव से अच्छा मुनाफ़ा अर्जित करने में अपार सफलता मिलेगी।

भविष्य से जुड़ी किसी भी समस्या का समाधान मिलेगा विद्वान ज्योतिषियों से बात करके

मिथुन राशि 

मिथुन राशि के जातकों के लिए मंगल-शुक्र की युति आपके सप्तम भाव में होगी। खासतौर से 31 जनवरी तक मंगल देव की कृपा से आपके लिए धन लाभ होने के प्रबल योग बनेंगे, जिससे कई जातकों को अपना बैंक बैलेंस बढ़ाने का अवसर मिलेगा। इसके बाद वो जातक जो नौकरी व व्यापार से जुड़े हैं वे भी अपने करियर में सफलता अर्जित करेंगे। ग्रहों का ये प्रभाव सबसे अधिक आपकी आय में वृद्धि करेगा। यदि आप शादीशुदा हैं तो आर्थिक तंगी से निजात मिलने से आपका दांपत्य जीवन खुशहाल रहेगा। 

 ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से मुफ्त जन्म कुंडली प्राप्त करें

वृश्चिक राशि 

मंगल ग्रह वृश्चिक राशि के स्वामी होते हैं और अब मंगल-शुक्र की युति आपकी राशि से द्वितीय यानी धन भाव में ही हो रही है। ऐसे में इस युति के फलस्वरूप वृश्चिक जातकों के जीवन में अपार धन की वर्षा होने के योग बनेंगे। क्योंकि ये वो समय होगा जब मंगल देव व शुक्र देव की कृपा से आप अपनी आमदनी के स्रोतों में वृद्धि करने में सक्षम होंगे। कई जातकों को इस अवधि में कोई शुभ समाचार भी प्राप्त होने की संभावना है। साथ ही कार्यक्षेत्र पर भी आपकी मेहनत रंग लाएगी और आपको आर्थिक रूप से तरक्की मिलने के योग भी बनेंगे। ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि ग्रहों का ये प्रभाव इस राशि के भाग्योदय होने के भी प्रबल योग दर्शा रहा है। 

धनु राशि 

शुक्र-मंगल की ये युति आपके प्रथम यानी लग्न में होगी। जिसके परिणामस्वरूप फरवरी तक ग्रहों का ये प्रभाव आपके लिए उत्तम फल मिलने के योग बनाएगा। क्योंकि इस दौरान धनु जातकों के साहस व पराक्रम में वृद्धि होगी और इससे करियर में उनके लिए सफलता व मुनाफे मिलने के योग बनेंगे। हालांकि आपको जल्दबाज़ी में कोई भी निर्णय न लेने की और अपने शत्रुओं पर नज़र बनाए रखने की भी सलाह दी जाती है। 

नये साल में करियर की कोई भी दुविधा कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट से करें दूर

कुंभ राशि 

मंगल का गोचर आपके लिए विशेष शुभ व लाभकारी सिद्ध होगा। शुक्र-मंगल की युति आपके लाभ व आय के एकादश भाव में होगी। ऐसे में इस दौरान करियर व व्यापार में आपको धन लाभ होने के प्रबल योग बनेंगे। वो जातक जिन्होंने पूर्व में कुछ भी निवेश किया था, वे उस निवेश से अब अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते हैं। आमदनी में वृद्धि होने से कई जातक अपनी मनचाही इच्छा पूर्ण करने में भी सक्षम होंगे। 

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

इसी आशा के साथ कि, आपको यह लेख भी पसंद आया होगा एस्ट्रोसेज के साथ बने रहने के लिए हम आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करते हैं।

Astrology

Dharma

विष्णु मंत्र - Vishnu Mantra

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

12 Jyotirlinga - 12 ज्योतिर्लिंग

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र - Kunjika Stotram: दुर्गा जी की कृपा पाने का अचूक उपाय

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

51 Shakti Peeth - 51 शक्तिपीठ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.