बुध का वृश्चिक राशि में गोचर: इन राशि के जातकों को रहना होगा सावधान

संचार, व्यापार की समझ और विश्लेष्ण का ग्रह माने जाने वाला बुध ग्रह 28 नवंबर को राशि परिवर्तन करेगा। ग्रहों के गोचर का अपने जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में अगर मन में कोई प्रश्न हो तो अभी देश के जाने-माने ज्योतिषियों से प्रश्न पूछें, साथ ही गोचर के प्रभाव से बचने के उपाय भी जानें। 

इस आर्टिकल में हम बात कर रहे हैं बुध के गोचर की, जो की 28 नवंबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश कर रहा है। ग्रहण-गोचर से जुड़ी किसी भी बात की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इसमें बृहत् कुंडली सहायक साबित हो सकती है। इसमें आपको ज्योतिष की दुनिया में महत्व रखने वाली इन सभी घटनाओं को आपके जीवन से जोड़कर सटीक, व्यक्तिगत और विस्तृत जानकारी प्रदान की जाती है।

अब बात करें अगर बुध गोचर की तो 28 नवंबर को 06:53 बजे बुध वृश्चिक राशि में गोचर करेगा। जिसके बाद 17 दिसंबर तक बुध वृश्चिक राशि में ही रहेगा और फिर 11:26 बजे पर धनु राशि में चला जाएगा। कुंडली में बुध की स्थिति ही इस बात को निर्धारित करती है कि एक इंसान की बोली कैसी है और उसका व्यवहार कैसा है। साथ ही बुध यह भी निर्धारित करता है कि एक व्यक्ति की बुद्धि और उसका व्यक्तित्व कैसा है।

बुध ग्रह को वैदिक ज्योतिष की दुनिया में एक लाभदाता ग्रह के रूप में माना गया है। हालाँकि अगर यह क्रूर ग्रहों के संपर्क में आ जाये तो कभी-कभी यह अशुभ फल भी देने लगता है। हिंदू पौराणिक ग्रंथों के अनुसार बुध ग्रह को चंद्रमा और बृहस्पति की पत्नी तारा की संतान माना और बताया गया है। यही वजह है कि बुध में चंद्रमा व बृहस्पति की भी कुछ विशेषताएं देखने को मिलती हैं। 

करियर की हो रही है टेंशन! अभी आर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

मिथुन और कन्या राशि के स्वामी बुध ग्रह का यह राशि परिवर्तन आपके जीवन में क्या मुख्य और बड़े बदलाव लेकर आने वाला है यह जानने के लिए अभी पढ़िए राशिनुसार आपका गोचर भाग्यफल।

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

बुध गोचर – मेष राशि फलादेश

मेष राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके आठवें घर में हो रहा है। जिसे अनुसंधान, परिवर्तन और अनिश्चितता का प्रतिनिधि माना गया है। बुध मेष जातकों के साहस, प्रयासों, भाई-बहनों (विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – वृषभ राशि फलादेश

वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके सातवें घर में होगा। सातवाँ घर को जीवन साथी, रिश्तों और व्यापारिक साझेदारी का घर माना जाता है। ऐसे में बुध का यह गोचर वृषभ राशि के जातकों के(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – मिथुन राशि फलादेश

बुध को आपके प्रथम भाव जिससे आपके व्यक्तित्व, स्वभाव का पता चलता है और चतुर्थ जिससे माता, आंतरिक सुख, भूमि के बारे में विचार किया जाता है का स्वामित्व हासिल है। इस गोचर के दौरान बुध मिथुन राशि(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – कर्क राशि फलादेश

बुध का यह गोचर कर्क राशि के जातकों के पांचवें घर में होने जा रहा है। पांचवा घर संतान, विचारों, बुद्धि, प्रेम, और रोमांस का प्रतिनिधित्व करता है। बुध का यह गोचर कर्क राशि के जातकों (विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – सिंह राशि फलादेश

सिंह राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके चौथे घर में होगा। चौथे घर को माता, भूमि, संप्रेक्षण, विलासिता और आराम का प्रतिनिधि माना जाता है। बुध सिंह राशि के जातकों के लिए (विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – कन्या राशि फलादेश

कन्या राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके तीसरे भाव में होगा। तीसरा घर साहस, पराक्रम, भाई-बहन, यात्रा और संचार का प्रतिनिधित्व करता है। बुध की यह स्थिति आपको(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

गोचर की सम्पूर्ण जानकारी के लिए देखें यह वीडियो 

बुध गोचर – तुला राशि फलादेश

तुला राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके दूसरे घर में होगा। दूसरा घर संचित धन, बचत, परिवार और भाषण का प्रतिनिधित्व करता है। तुला राशि के जातकों के लिए बुध का गोचर बेहद (विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – वृश्चिक राशि फलादेश

वृश्चिक राशि वालों के लिए बुध आठवें घर यानि कि दीर्घायु, परिवर्तन, अनुसंधान और ग्याहरवें घर यानि कि सफलता और लाभ को नियंत्रित करता है। इस गोचर के दौरान बुध आपके पहले (विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – धनु राशि फलादेश

धनु राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके द्वादश घर में होगा जो व्यय और विदेशी स्रोतों का प्रतिनिधित्व करता है। बुध विवाह, व्यापार, साझेदारी और कैरियर के सातवें घर और पेशे के दसवें घर (विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – मकर राशि फलादेश

सफलता, लाभ और आय के घर में बुध का यह गोचर मकर राशि के जातकों के लिए शुभ परिणाम लेकर आएगा। यह घर भाई बहनों के रिश्ते को भी दर्शाता है। यानि कि यह बात साफ है कि इस गोचर के दौरान(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

राज योग रिपोर्ट से पाएं कुंडली में मौजूद सभी राज योग की जानकारी

बुध गोचर – कुंभ राशि फलादेश

कुंभ राशि के जातकों के लिए बुध ग्रह का यह गोचर उनके दशम भाव में होने जा रहा है। वैदिक ज्योतिष में दशम घर को समाज में प्रतिष्ठा, कैरियर और पेशे को दर्शाता है। बुध प्रेम, बुद्धि, संतान के (विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

बुध गोचर – मीन राशि फलादेश

मीन राशि के लिए बुध का गोचर उनके नौवें भाव में होगा जो उनके भाग्य, उच्च शिक्षा, और आध्यात्मिकता का प्रतिनिधित्व करता है। संचार का ग्रह माने जाने वाले बुध ग्रह चौथे घर जिसे माता और आराम और सातवें घर(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम आशा करते हैं कि हमारा यह लेख आपको अवश्य पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Spread the love

Astrology

Dharma

विष्णु मंत्र - Vishnu Mantra

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

12 Jyotirlinga - 12 ज्योतिर्लिंग

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र - Kunjika Stotram: दुर्गा जी की कृपा पाने का अचूक उपाय

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

51 Shakti Peeth - 51 शक्तिपीठ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.