शुक्र ग्रह विशेष: कुंडली में शुक्र ग्रह को कमज़ोर बनाती हैं शुक्रवार के दिन की गई ये गलतियाँ

‘भोर का तारा’, ‘विनस’, ‘स्त्री ग्रह’ यह सभी नाम शुक्र ग्रह के हैं। ज्योतिष में शुक्र ग्रह को एक बेहद ही शुभ ग्रह माना गया है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार जिन व्यक्तियों की कुंडली में शुक्र ग्रह शुभ स्थिति में होता है उन्हीं इस ग्रह के प्रभाव से व्यक्ति को भौतिक सुख, शारीरिक सुख और वैवाहिक जीवन में तमाम तरह के सुखों की प्राप्ति होती है। इसके अलावा शुक्र ग्रह भोग विलास की वस्तुओं, शौहरत, सुंदरता, रोमांस, डिजाइनिंग आदि का कारक भी माना जाता है।

This image has an empty alt attribute; its file name is vedic-gif.gif

तमाम विशेषताओं वाला यह शुक्र ग्रह जल्द ही गोचर करने वाला है। शुक्र का यह गोचर 6 सितंबर सोमवार के दिन होगा। ऐसे में आज अपने इस विशेष आर्टिकल में हम जानेंगे शुक्र ग्रह से संबंधित कुछ विशेष और जानने वाली बातें। यहां हम बात करेंगे कुंडली में शुक्र ग्रह के शुभ और अशुभ होने के संकेतों के बारे में, शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपायों के बारे में, और साथ ही जल्द होने वाले शुक्र गोचर के ज्योतिषीय प्रभाव और इससे किस राशि को लाभ और नुकसान उठाना पड़ सकता है इस बारे में भी हम जानेंगे।

किसी भी निर्णय को लेने में आ रही है समस्या, तो अभी करें हमारे विद्वान ज्योतिषियों से फोन पर बात

वैदिक ज्योतिष में शुक्र ग्रह का महत्व 

जैसा कि हमने पहले ही बताया कि वैदिक ज्योतिष में शुक्र ग्रह को एक शुभ ग्रह माना जाता है जिसके प्रभाव से व्यक्ति को आर्थिक, शारीरिक और वैवाहिक सुख की प्राप्ति होती है। इसके अलावा ज्योतिष में शुक्र ग्रह को वैवाहिक सुख, शोहरत, प्रतिभा इत्यादि का कारक भी माना जाता है। शुक्र ग्रह एक राशि में तकरीबन 23 दिनों तक रहता है और उसके बाद राशि परिवर्तन अर्थात गोचर कर लेता है।

जल्द होने वाला है शुक्र ग्रह का गोचर 

सितंबर महीने की शुरुआत यानी की 6-सितंबर 2021-सोमवार के दिन शुक्र ग्रह का तुला राशि में गोचर होने वाला है। इस गोचर का समय हम आपको नीचे प्रदान कर रहे हैं। शुक्र का तुला राशि में गोचर 12 बजकर 39 मिनट पर होगा। इस गोचर के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्र का अपनी ही राशि तुला में होने वाला यह गोचर अनुकूल रहने वाला है। इससे आम तौर पर जातकों के जीवन में खुशियां आती हैं। ऐसे में शुक्र का तुला राशि में गोचर अधिकांश जातकों के जीवन में मिठास और खुशियां लेकर आएगा। आपके दिल की भावनाएं और प्यार जग जाहिर होगा। कुछ जातकों को विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण महसूस होगा और इस दौरान प्रेम में पड़ने की आप की संभावना अधिक रहने वाली है। 

इस दौरान आपके अंदर सहानुभूति की भावना बढ़ेगी और आपकी मानवता के प्रति किए जाने वाली सेवाओं और परोपकार में वृद्धि देखने को मिलेगी। मीडिया क्षेत्र को ज्यादा शक्ति मिलेगी और आम लोगों पर मीडिया का प्रभाव बढ़ेगा। इसके अलावा शुक्र के इस गोचर के दौरान मनोरंजन उद्योग को कुछ सकारात्मक संकेत और वृद्धि देखने को भी मिल सकती है। महिलाओं के अधिकार और सशक्तिकरण के लिए कुछ खास कदम उठाए जाएंगे और कुछ महिलाओं को अधिक कार्य पदों पर निर्धारित भी किया जा सकता है। मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में उन्नति होगी। इस दौरान उत्पादों की मांग बढ़ने वाली है। मेडिकल सेक्टर में भी प्रगति देखने को मिलेगी। नई दवाएं बाजार में आएंगी जो ज्यादा असरदार होंगी। ऑटोमोबाइल और लग्जरी वाहनों की मांग में भी बढ़ोतरी होगी।

जल्द होने वाला शुक्र गोचर इन राशियों के लिए शुभ रहेगा: 

  • तुला राशि
  • कन्या राशि
  • कुंभ राशि
  • कर्क राशि 

इन राशियों के लिए शुक्र गोचर रहेगा प्रतिकूल

  • वृश्चिक राशि
  • मकर राशि
  • वृषभ राशि 

शुक्र ग्रह का हमारे जीवन पर प्रभाव

ज्योतिष के अनुसार जिस व्यक्ति की कुंडली में शुक्र ग्रह लग्न भाव में विराजित होता है ऐसे लोग बेहद ही सुंदर और आकर्षक व्यक्तित्व के होते हैं। साथ ही ऐसे लोग बेहद ही मृदुभाषी भी होते हैं। जिन व्यक्तियों की कुंडली में शुक्र ग्रह मजबूत स्थिति में होता है ऐसे व्यक्ति तमाम सुख-सुविधाओं के साथ शानदार प्रेम और वैवाहिक जीवन व्यतीत करते हैं। इसके अलावा ऐसे व्यक्तियों का प्रेम पक्ष काफी शानदार रहता है।

वहीं इसके विपरीत जिन व्यक्तियों की कुंडली में शुक्र कमजोर स्थिति में होता है ऐसे लोगों को परिवार और प्रेम जीवन में तमाम तरह की परेशानियों और कष्टों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा ऐसे व्यक्तियों का प्रेम जीवन हमेशा उतार-चढ़ाव भरा रहता है और ऐसा व्यक्ति भौतिक सुखों की प्राप्ति भी नहीं कर पाता है।

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

कुंडली में शुक्र ग्रह के शुभ और अशुभ होने के संकेत

कुंडली में कौन सा ग्रह अशुभ स्थिति में बैठा है और कौन सा शुभ स्थिति में है इस बात का अंदाजा कुछ संकेतों के माध्यम से बेहद ही आसानी से लगाया जा सकता है। ऐसे में जानते हैं कि कुंडली में शुक्र ग्रह अशुभ स्थिति में है या अशुभ स्थिति में है इस बात को किन संकेतों से जाना जा सकता है।

कुंडली में शुक्र के कमजोर होने के संकेत

  • यदि आपको जीवन में आर्थिक परेशानियां और हमेशा भौतिक चीजों की कमी रहती है तो यह शुक्र के कमजोर होने का संकेत हो सकता है। 
  • इसके अलावा यदि आपके जीवन में दरिद्रता बनी हुई है तो भी यह शुक्र ग्रह के कमजोर होने का एक लक्षण माना जा सकता है। 
  • शुक्र ग्रह कमजोर होता है तो व्यक्ति का आकर्षण धीरे-धीरे खत्म होने लगता है। 
  • स्त्री सुख में कमी आना भी कमजोर शुक्र का लक्षण माना गया है। 
  • इसके अलावा यदि आपका वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं है और अकारण विवाद हो रहे हैं तो भी यह शुक्र ग्रह के नकारात्मक प्रभाव की वजह से हो सकता है।

आपकी कुंडली में भी है राजयोग? जानिए अपनी  राजयोग रिपोर्ट

कुंडली में शुक्र के शुभ होने के संकेत

  • जिन व्यक्तियों की कुंडली में शुक्र ग्रह शुभ स्थिति में होता है उन्हें भौतिक सुखों की प्राप्ति होती है। 
  • इसके अलावा ऐसे व्यक्तियों का जीवन में सुख शांति से बीतता है। 
  • ऐसे व्यक्ति शानदार आकर्षण शक्ति वाले होते हैं और विपरीत लिंग के लोगों को अपनी और आकर्षित करने में सदैव सफल रहते हैं। 
  • शुक्र ग्रह के अशुभ प्रभाव से व्यक्ति अपने जीवन में सुख सुविधा के साथ ही यश और कीर्ति कमाता है। 
  • शुक्र ग्रह मजबूत हो तो ऐसे जातक मीडिया, कला, मनोरंजन के क्षेत्र में नाम कमाने में सफल रहते हैं।

दिलचस्प वीडियो और पोस्ट के लिए एस्ट्रोसेज इंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें! एक नजर आज की खास पोस्ट पर:

शुक्रवार के दिन भूल से भी ना करें यह काम, होती है धन हानि

शुक्रवार के दिन पर शुक्र ग्रह का आधिपत्य होता है। ऐसे में स्वाभाविक है कि इस दिन कुछ विशेष कामों को करके शुक्र ग्रह को मज़बूत बनाया जा सकता है और वहीं इस दिन किये गए कुछ गलत कार्यों का व्यक्ति को नकारात्मक परिणाम भी झेलना पड़ सकता है। तो आइये जान लेते हैं कुंडली में शुक्र ग्रह को मज़बूत बनाने के लिए शुक्रवार के विशेष उपाय और क्या काम इस दिन भूल से भी नहीं करना चाहिए। 

  • शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी से संबंधित होता है। ऐसे में इस दिन पैसों का लेनदेन ना करने की सलाह दी जाती है। 
  • शुक्रवार के दिन मुख्य रूप से किसी भी कन्या, महिला या फिर किन्नर का अपमान ना करें। इन्हें अपशब्द ना बोलें। कोशिश करें इन्हें इस दिन कोई तोहफा देकर इनका आशीर्वाद अवश्य लें। 
  • इसके अलावा शनिवार को किसी को भी चीनी देने से बचें। कहते हैं ऐसा करने से शुक्र ग्रह कमजोर होने लगता है और व्यक्ति के जीवन में सुख समृद्धि और आर्थिक संपन्नता में कमी आने लगती है। 
  • शुक्रवार के दिन कोई भी खट्टी वस्तु का सेवन करने से बचें। ऐसा करने से मां संतोषी नाराज हो जाती हैं। 
  • इसके अलावा यूं तो अपने घर को हमेशा ही साफ सुथरा रखने की सलाह दी जाती है लेकिन शुक्रवार के दिन विशेष रूप से घर को साफ सुथरा रखें। घर के मंदिर को साफ सफाई करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी की कृपा आपके जीवन में बनी रहती है। घर में गंदगी रहने से दरिद्रता आती है और व्यक्ति को आर्थिक हानि भी होने लग जाती है।

इन ज्योतिषीय उपायों से करें शुक्र ग्रह को मजबूत, पाएं समृद्धि और आर्थिक लाभ 

  • स्त्रियों का सम्मान करें। ऐसा करने से कुंडली में शुक्र लाभकारी परिणाम देता है और व्यक्ति की मान सम्मान में वृद्धि आती है। 
  • शुक्र ग्रह सफेद रंग से संबंधित भी माना गया है। ऐसे में यदि आप अपने जीवन में ज्यादा से ज्यादा सफेद रंग शामिल करते हैं तो इससे भी आपको शुक्र ग्रह के शुभ परिणाम मिलने में मदद प्राप्त होती है। 
  • शुक्रवार और पूर्णिमा के दिन शुक्र मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से भी शुक्र ग्रह मजबूत होता है। 
  • सफेद वस्तुओं जैसे खीर, दूध, चावल और दही खाने से और साथ ही इनका दान करने से शुक्र ग्रह मजबूत होता है और व्यक्ति को शुभ फल की प्राप्ति होती है। 
  • शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए पुरुषों को ओपल रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है। हालांकि कोई भी रत्न हमेशा किसी विद्वान ज्योतिषी से सलाह मशवरा और परामर्श के बाद ही धारण करें। रत्न से संबंधित कोई भी परामर्श प्राप्त करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। 
  • शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए महिलाओं को हीरा या जरकन पहनने की सलाह दी जाती है। 
  • इसके अलावा स्फटिक की माला धारण करने से भी शुक्र ग्रह के शुभ फल मिलने लगते हैं। 
  • शुक्रवार के दिन शिवजी को सफेद फूल अर्पित करने से भी शुक्र ग्रह को मजबूत किया जा सकता है।

यंत्र – शुक्र यंत्र

शुक्र से संबंधित जड़ी – अरंड मूल

शुक्र से संबंधित रत्न – हीरा

शुक्र से संबंधित रंग – गुलाबी

शुक्र से संबंधित मंत्र 

शुक्र वैदिक मंत्र 

ॐ अन्नात्परिस्त्रुतो रसं ब्रह्मणा व्यपिबत् क्षत्रं पय: सोमं प्रजापति:।

ऋतेन सत्यमिन्द्रियं विपानं शुक्रमन्धस इन्द्रस्येन्द्रियमिदं पयोऽमृतं मधु।।

शुक्र का तांत्रिक मंत्र

ॐ शुं शुक्राय नमः

शुक्र का बीज मंत्र

ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

इसी आशा के साथ कि, आपको यह लेख भी पसंद आया होगा एस्ट्रोसेज के साथ बने रहने के लिए हम आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करते हैं।

Astrology

Dharma

विष्णु मंत्र - Vishnu Mantra

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

12 Jyotirlinga - 12 ज्योतिर्लिंग

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र - Kunjika Stotram: दुर्गा जी की कृपा पाने का अचूक उपाय

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

51 Shakti Peeth - 51 शक्तिपीठ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

बजरंग बाण: पाठ करने के नियम, महत्वपूर्ण तथ्य और लाभ

विष्णु मंत्र का प्रयोग सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु जी की आराधना के लिए होता है। जिस ...

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.