शुक्र का धनु राशि में गोचर, जानें प्रभाव

शुक्र के राशि गमन से इन राशियों को होगा जबरदस्त लाभ। पढ़ें शुक्र के धनु राशि में गोचर का ज्योतिषीय प्रभाव।  

सौंदर्य और कला का कारक शुक्र ग्रह 21 नवंबर 2019 को बृहस्पति की राशि धनु में गोचर कर रहा है। इस गोचर का प्रभाव सभी राशियों पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही तरह से होगा। हालाँकि इन प्रभावों को जानने से पूर्व हमें शुक्र ग्रह से संबंधित आवश्यक बातों को जान लेना चाहिए। ज्योतिष में शुक्र ग्रह को एक सौम्य ग्रह माना जाता है। यह तुला और वृषभ राशि का स्वामी है। मीन राशि में यह उच्च और कन्या राशि में नीच का होता है। 

वहीं नक्षत्रों में यह भरणी, पूर्वा फाल्गुनी और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्रों का मालिक है। शुक्र के गोचर की अवधि क़रीब-क़रीब 23 दिन की होती है। यानि एक राशि से यह दूसरी में जाने के लिए शुक्र तकरीबन 23 दिन का समय लेता है। कुंडली में यदि शुक्र की स्थिति मजबूत हो तो जातकों को इसके शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं।  

शुक्र ग्रह के शुभ प्रभाव से व्यक्ति सुंदर, आकर्षक, कामुक, किसी कला में निपुण और ऐश्वर्यशाली होता है। यदि किसी जातक की जन्म कुंडली शुक्र ग्रह मजबूत होता है तो वह जातक सभी प्रकार के भौतिक सुखों का आनंद लेता है। उसका दांपत्य जीवन मधुर बना रहता है। वहीं प्रेम जीवन में रोमांस का भाव रहता है।

वहीं जब शुक्र ग्रह कमज़ोर अथवा पीड़ित होता है तो जातक को कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। व्यक्ति के जीवन में दरिद्रता आती है। उसका जीवन भौतिक सुखों के अभाव में बीतता है। वहीं शादीशुदा जातकों के वैवाहिक जीवन में परेशानियाँ आती हैं। ऐसे में कमज़ोर शुक्र को मजबूत करना चाहिए। इसके लिए शुक्र ग्रह की शांति के उपाय किए जा सकते हैं।

शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय

  • शुक्रवार के दिन गुलाबी वस्त्र धारण करें।
  • अरंड मूल पहनने से जातक की कुंडली में शुक्र मजबूत होता है।
  • रत्नों में हीरा धारण करना शुक्र ग्रह के लिए शुभ होता है।
  • वहीं नौ या तेरह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से शुक्र का आशीर्वाद मिलता है।
  • विधि अनुसार, शुक्र यंत्र स्थापित कर उसकी विधिवत पूजा करनी चाहिए।
  • शुक्र ग्रह के बीज मंत्र का जाप करें – ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः

गोचर की समयावधि

21 नवंबर 2019, बृहस्पतिवार को दोपहर 12:04 बजे शुक्र ग्रह वृश्चिक राशि से निकलकर धनु राशि में गोचर करेगा और 15 दिसंबर 2019, रविवार को सायँ 17:44 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेगा। इसके बाद यह मकर राशि में जाएगा। 

आइए अब जानते हैं शुक्र ग्रह के इस गोचर का सभी 12 राशियों पर प्रभाव – 

मेष राशि

इस गोचर के दौरान शुक्र आपकी राशि से नवम भाव में स्थित होंगें। शुक्र के इस गोचर का प्रभाव विशेष रूप से आपके वैवाहिक जीवन और कार्यक्षेत्र पर देखने को मिल सकता है। सबसे पहले बात करे वैवाहिक जीवन की तो, इस गोचरीय अवधि में आप……आगे पढ़ें

वृषभ राशि

वृषभ राशि में शुक्र का प्रवेश आठवें भाव में होगा। शुक्र ग्रह का आपकी राशि से आठवें भाव में स्थित होना आपके लिए स्वास्थ्य के लिहाज से हानिकारक साबित हो सकता है। इस गोचरकाल में आपको विशेष रूप से अपनी सेहत का ख़ास ख्याल रखने……आगे पढ़ें

मिथुन राशि

इस गोचर के दौरान शुक्र आपकी राशि से सातवें भाव में स्थापित होंगें। शुक्र के गोचर का विशेष प्रभाव आपके वैवाहिक जीवन पर देखने को मिल सकता है। इस दौरान आप अपने जीवनसाथी की भावनाओं को भली-भांति समझने का प्रयास करेंगे और उनकी……आगे पढ़ें

कर्क राशि

इस गोचरकाल में शुक्र का प्रवेश कर्क राशि के छठे भाव में होगा। आपकी कुंडली में शुक्र की ये स्थिति मुख्य रूप से जीवन की कठिनाईओं को बढ़ा सकती है। लिहाजा आपके लिए शुक्र के गोचर का ये समय खासतौर से चुनौती पूर्ण साबित हो सकता……आगे पढ़ें

सिंह राशि

इस गोचर के दौरान शुक्र आपकी राशि से पांचवें भाव में स्थापित होंगें। सिंह राशि के जातकों के लिए ये गोचर विभिन्न स्तरों पर लाभदायी साबित हो सकता है। शुक्र के धनु राशि में होने वाले इस गोचर के दौरान आप विशेष रूप से कुछ ऐसे लोगों……आगे पढ़ें

कन्या राशि

कन्या राशि में शुक्र का गोचर चौथे भाव में होगा। आपकी कुंडली में शुक्र की ये स्थिति आपके लिए बेहद अनुकूल साबित हो सकती है। सबसे पहले बात करें पारिवारिक जीवन की तो, इस गोचरकाल के दौरान परिवार में नई ख़ुशियाँ आएँगी और माता-पिता एवं……आगे पढ़ें

तुला राशि

इस गोचर के दौरान शुक्र आपकी राशि से तीसरे भाव में स्थापित होंगें। तुला राशि के जातकों के लिए शुक्र का ये गोचर विशेष फलदायी साबित हो सकता है। गोचर की इस अवधि में आपका ध्यान खासतौर से लक्ष्य प्राप्ति पर होगा जिससे आप अपने लक्ष्य……आगे पढ़ें

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि में शुक्र का प्रवेश दूसरे भाव में होगा। शुक्र का ये गोचर आपके लिए खासतौर से बिज़नेस और कार्यक्षेत्र के लिहाज से विशेष फलदायी साबित हो सकता है। जहाँ एक तरफ कार्यक्षेत्र में आप अपनी मेहनत और लगन के बल पर……आगे पढ़ें

धनु राशि

शुक्र का गोचर धनु राशि में ही होने की वजह से ये आपकी राशि से प्रथम भाव में स्थापित होंगे। प्रथम भाव को ज्योतिषशास्त्र में लग्न भाव भी कहा जाता है। इस गोचरकाल के दौरान आपको अपनी सेहत का विशेष रूप से ध्यान रखना होगा। इस दौरान आपको स्वास्थ्य……आगे पढ़ें

मकर राशि

इस गोचर के दौरान शुक्र आपकी राशि से बारहवें भाव में विराजमान होंगें। शुक्र का ये गोचर विशेष रूप से मकर राशि के छात्रों के लिए विशेष फलदायी साबित हो सकता है। उच्च शिक्षा प्राप्ति के लिए विदेश जाने की इच्छा रखने वाले छात्रों को इस दौरान……आगे पढ़ें

कुंभ राशि

कुंभ राशि में शुक्र इस गोचरकाल में ग्यारहवें भाव में विराजमान होंगे। आपकी कुंडली में शुक्र की ये स्थिति आपके लिए फलदायी साबित हो सकती है। इस गोचरकाल के दौरान आर्थिक रूप से आपको लाभ मिलने की संभावना है। अनायास ही किसी स्रोत……आगे पढ़ें

मीन राशि

इस गोचर के दौरान शुक्र आपकी राशि से दसवें भाव में विराजमान होंगे। मीन राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि मिला जुला परिणाम देने वाला साबित होगी। नौकरी पेशा लोगों को इस दौरान कार्यक्षेत्र में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। हालाँकि कार्यस्थल……आगे पढ़ें

Spread the love
पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.