साल का पहला चंद्र ग्रहण आज, इस राशि के जातक बरतें खास सावधानी

10 जनवरी को इस साल यानि 2020 का पहला चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। यह चंद्र ग्रहण पौष शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा की तिथि को घटित होगा। ग्रहण काल की शुरुआत रात 10 बजकर 37  मिनट से हो जाएगी और इसका अंत 2:42 AM पर 11 जनवरी को होगा। इसका मतलब यह हुआ कि इस ग्रहण की अवधि करीब 4 घंटे की होगी। इस ग्रहण को भारत, यूरोप, एशिया, अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में देखा जा सकेगा। हालांकि ज्योतिषियों का कहना है कि भारत में इस ग्रहण का असर ना के बराबर देखने को मिलेगा। इस ग्रहण पर सूतक नहीं लगेगा और मंदिरों के कपाट भी बंद नहीं होंगे।

क्या होता है चंद्र ग्रहण

जानकारी के लिए बता दें कि चंद्र ग्रहण एक खगोलीय घटना होती है। इस दौरान चांद पृथ्वी के ठीक पीछे होता है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार चंद्र ग्रहण के दौरान कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। हालांकि उपच्छाया चंद्र ग्रहण का सूतक नहीं माना जाएगा। पंचांग के मुताबिक जिस चंद्र ग्रहण को हम नग्न आंखों से नहीं देख सकते है उसका धार्मिक महत्व नहीं होता है।

मंदिर जाने से पहले भूलकर भी न करें यह एक गलती, वर्ना पुण्य की जगह लगेगा पाप !

कैसे लगता है चंद्र ग्रहण

पूर्ण चंद्र ग्रहण तब लगता है जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है और अपने उपग्रह चंद्रमा को अपनी छाया से ढक लेती है। इस तरह चंद्रमा पूरी तरह पृथ्वी के पीछे छिप जाता है। यही वजह है कि उस पर सूर्य की रोशनी नहीं पड़ पाती है और पृथ्वी की प्रच्छाया उस पर पड़ने लगती है, जिससे उसका बिंब काला पड़ जाता है। इस खगोलीय घटना को चंद्र ग्रहण कहते हैं। 

मिथुन राशि बरतें सावधानी

ज्योतिष नज़रिए से इस चंद्र ग्रहण को देखा जाए तो यह मिथुन राशि के पुनर्वसु नक्षत्र में घटित होगा। इसलिए मिथुन राशि के जातकों को खास सावधानी बरतने की जरूरत है। 2020 का पहला चंद्र ग्रहण मिथुन राशि में लगने जा रहा है, इसलिए इसका सबसे ज्यादा असर महिलाओं पर पड़ेगा। वहीं यह चंद्र ग्रहण काल पुरुष के तीसरे भाव में लगने के कारण युद्ध की भावनाएं भी बनेंगी। इस चंद्र ग्रहण का असर प्राकृतिक आपदाओं के संकट को भी बढ़ा सकता है। यही नहीं पृित दोष से पीड़ित लोगों को इससे ज्यादा नुकसान होने की संभावना बताई जा रही है। 

माता पार्वती ने दिया था रावण की पत्नी को श्राप, पति की मौत के बाद कहाँ गयी मंदोदरी?

दान-पुण्य से होगी मोक्ष की प्राप्ति

10 जनवरी को माघ मेला लग रहा है और इस दिन पौष पूर्णिमा भी है इसलिए इस दौरान श्रद्धालु गंगा में डुबकी लगाएंगे। हालांकि ग्रहण के बाद दान-पुण्य करना लाभदायक होगा। शास्त्रों के अनुसार इस महीने में दान पुण्य का करोड़ों गुणा फल मिलता है। ऐसा मानते हैं कि इस दिन स्नान और दान से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसलिए जो भी मोक्ष पाने की कामना करते हैं उनके लिए यह बहुत शुभ दिन होता है। 

साल 2020 में कुल 4 चंद्र ग्रहण होगा। बता दें 10 जनवरी को साल का पहला चंद्र ग्रहण होगा तो दूसरा ग्रहण 5 जून 2020 को होगा। वहीं तीसरा चंद्र ग्रहण 5 जुलाई को होगा और चौथा 30 नवंबर को होगा।

Spread the love
पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.