मोटापा कम करने के घरेलू उपाय

आजकल की दौड़भाग भरी ज़िन्दगी में लोग रोज़ी-रोटी के चक्कर में इतने व्यस्त हो जाते हैं कि अपनी सेहत पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे पाते, जिसकी वजह से उन्हें कई तरह की स्वास्थ संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इनमें सबसे आम और भयानक रूप लेने वाली समस्या है मोटापा। यह न केवल आपकी पर्सनालिटी को खराब करता है बल्कि हार्ट संबंधी रोग, थायरॉइड, लीवर आदि जैसी बड़ी बीमारियों की भी एक बड़ी वजह है। मोटापा आपको केवल शारीरिक तौर पर हीं प्रभावित नहीं करता बल्कि आपको मानसिक रूप से भी क्षति पहुँचाता है क्यूंकि ज्यादा मोटापा बढ़ने से लोग धीरे-धीरे अपना सेल्फ कॉन्फिडेंस खो देते हैं और हर वक़्त उनके दिमाग में यह सवाल घूमते रहता है कि मोटापा कैसे कम करें?

और पढ़ें –  क्या आप भी चाहते हैं सुन्दर-सुडौल शरीर? जानें पतला होने के यह आसान उपाय

इसलिए बेहतर होगा कि आप मोटापे को शुरूआती दौर में हीं बढ़ने से रोक दें तथा कमर और पेट कम करने के उपाय अपनाएँ। हममें से बहुत से लोग मोटापा कम करने के लिए बाज़ार में उपलब्ध कई तरह के महँगे सप्लीमेंट्स और मोटापा कम करने की दवा आदि का इस्तेमाल करते हैं जिसका सेवन हमारे स्वास्थ के लिए बहुत हीं नुक़सानदेह होता है।

आज हम इस लेख के माध्यम से आपको हर तरह से मोटापा घटाने के उपाय बताएंगे लेकिन उस से पहले जरूरी है कि हम मोटापा बढ़ने के कारणों को सही तरह से जान लें।

मोटापे के कारण

  • अधिक मसालेदार एवं तेल युक्त भोजन का सेवन
  • स्थिर जीवनशैली
  • पर्याप्त नींद ना लेना
  • आनुवांशिकता
  • पूर्व चिकित्सा संबंधी समस्या
  • शारीरिक परिश्रम न करना (निष्क्रिय रहना)
  • मानसिक तनाव
  • हार्मोन का असंतुलन
  • मेटाबॉलिज़्म कम होना

मोटापा कम करने के लिए ज्योतिषीय उपाय

कहते हैं कि हमारी शारीरिक गतिविधियाँ या बदलाव हमारे ग्रहों पर निर्भर करती हैं, इसीलिए किसी भी तरह की शारीरिक परेशानी में ज्योतिषीय सलाह भी बेहद महत्वपूर्ण है। ज्योतिष शास्त्र के द्वारा हम मोटापा कम करने के कुछ उपाय प्राप्त कर सकते हैं।

शास्त्रों में बृहस्पति ग्रह जो कि हमारे शरीर में वसा को नियंत्रित करता है, उसे किसी भी तरह की वृद्धि का कारक माना जाता है। यह माना जाता है कि यदि गुरु ग्रह पर किसी तरह की समस्या आती है तो जातक को शारीरिक तौर पर परेशानी हो सकती है। निरोग और स्वस्थ जीवन की चाह रखने वाले जातक के लिए जरूरी है कि वो अपनी कुंडली में  गुरु ग्रह को मजबूत करें।

बृहस्पति ग्रह को मजबूत करने के लिए नीचे कुछ उपाय दिए जा रहे हैं –

  • गुरु यंत्र – नियमित रूप से गुरु यंत्र की पूजा करें। आपको बता दें कि गुरु मंत्र को हमेशा किसी ज्योतिषाचार्य की सलाह से हीं ग्रहण करते हैं। इच्छित फलों की प्राप्ति के लिए गुरु यंत्र को गुरुवार के दिन हीं पूजा वाले स्थान पर स्थापित करें।
  • पुखराज – पुखराज रत्न बृहस्पति का प्रतिनिधित्व करता है। पीले या सफ़ेद पुखराज को सोने में बनवा कर तर्जनी उंगली में पहने। लेकिन ध्यान रहे कि पुखराज एक कीमती रत्न है इसीलिए किसी सिद्ध ज्योतिष की सलाह पर पुखराज धारण करें।

क्या आप जानते हैं ? सफलता के बंद दरवाज़े को खोलने की चाबी है पुखराज  

  • शिव सहस्रनाम स्तोत्र –  आप शिव सहस्रनाम स्तोत्र के जाप के द्वारा भी बृहस्पति को मजबूत कर सकते हैं। इसके लिए आप प्रातःकाल उठकर स्नान आदि के बाद शांत जगह पर बैठ कर शिव सहस्रनाम स्तोत्र का जाप करें।
  • श्रीमद् भागवत पुराण – हिन्दुओं के अट्ठारह पुराणों में से एक श्रीमद् भागवत पुराण में व्यक्ति की हर समस्या को दूर करने का उपाय है। शुद्ध और सच्चे मन से आप एकचित हो कर नियमित रूर्प से श्रीमद् भागवत पुराण का पाठ करें।
  • वामन देव – बृहस्पति ग्रह को प्रसन्न करने के लिए आप वामन देव की पूजा सच्चे मन से करें।  शास्त्रों में कहा गया है कि सच्चे मन से वामन देव की पूजा करने से इन्सान को इक्छित वस्तु की प्राप्ति होती है।
  • पीपल की जड़ – पीपल की जड़ को आप गले में ताबीज़ द्वारा या फिर कपड़े में सिलकर हाथ पर बांध सकते हैं. आप किसी ज्योतिषाचार्य से सलाह से विधि-विधान से पूजन करने के बाद हीं पीपल के जड़ को धारण करें।
  • पाँच मुखी रुद्राक्ष – पाँच मुखी रुद्राक्ष से लाभ प्राप्त करने के लिए आप विधि पूर्वक पूजन करने के बाद इसे धारण करें. इस कार्य के लिए आप ज्योतिष की मदद ले  सकते हैं.
  • बृहस्पति ग्रह – यदि व्यक्ति का बृहस्पति कमज़ोर हो तो उसे न केवल समाजिक और आर्थिक बल्कि शारीरिक तौर पर भी कष्ट उठाना पड़ता है। बृहस्पति ग्रह का इन्सान की ज़िन्दगी से  गहरा रिश्ता है। बृहस्पति ग्रह को मजबूत करने के लिए गुरुवार के दिन इस ग्रह से संबंधित वस्तुओं का दान करें।

और पढ़ें –  बृहस्पति को प्रसन्न करने के लिए करें ये आसान उपाय

  • गुरु बीज मंत्र – गुरु बीज मंत्र तुरंत असर करने वाले मंत्रो में एक है। इसके निरंतर जाप से आपको जल्द हीं मनचाहे फल की प्राप्ति हो सकती है। आप नीचे दिए गए गुरु बीज मंत्र का हर गुरुवार सच्चे मन से जाप करें।

           मंत्र – “ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः !”

ऊपर दिए गए मोटापा कम करने के उपाय के अलावा आप कुंडली के 12वें भाव के स्वामी से संबंधित उपाय भी करें। मोटापा कम करने के लिए नशे से दूर रहें और नशे से बचने के लिए राहु संबंधी दान कर सकते हैं।

मोटापा कम करने के आयुर्वेदिक उपाय

किसी भी बीमारी में आयुर्वेदिक उपचार सबसे कारगर और अच्छा माना जाता है। आयुर्वेदिक उपचार की सबसे बड़ी ख़ासियत यह है कि इससे आपको किसी भी तरह का साइड-इफ़ेक्ट नहीं होता। कई आयुर्वेदिक उपाय मसलन जीरा और मोटापा आदि काफ़ी असरदार माने जाते हैं। तो चलिए जानते हैं मोटापा कम करने के आयुर्वेदिक उपाय के बारे में –

1) अजवाइन का पानी- अजवाइन का पानी न केवल मोटापा कम करता है बल्कि हमारे  शरीर की पाचन क्रिया को भी तंदरुस्त रखता है। मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप 2 चम्मच अजवाइन को एक गिलास पानी में भिगो कर रात भर छोड़ दें. अगली सुबह इस पानी को छान लें और उसमें थोड़ा शहद मिलाकर पी जाएं। नियमित रूप से ऐसा करने से आपको जल्द लाभ मिलेगा।

2) दालचीनी और शहद – मोटापा कम करने के आयुर्वेदिक उपाय में दालचीनी शहद का मिश्रण बेहद कारगर है। दालचीनी एक ऐसा हर्ब है जो हमारे शरीर में ब्लड शुगर लेवल को सामान्य कर वजन कम करने में मदद करता है। यह मिश्रण तैयार करने के लिए एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच दालचीनी मिलाकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें। आधे घंटे बाद इसमें एक चम्मच शहद मिलाएं। सुबह के समय खाली पेट इसका आधा कप पी जाएं और शेष बचे पानी को फ्रीज में रख दें। रात को बिस्तर पर जाने से पहले बचे हुए पानी को पी जाएं।

3) नींबू का रस –  मोटापा कम करने के घरेलू उपाय में नींबू सबसे आसान और बाहर हीं असरदार है। नींबू हमारे पाचन में सुधार कर, शरीर से अत्यधिक चर्बी को खत्म करता है। इस उपाय को करने के लिए एक गिलास पानी में 3 चम्मच नींबू का रस, एक चम्मच शहद और आधा चम्मच काली मिर्च पाउडर डाल कर अच्छी तरह मिला लें। सुबह खाली पेट इसे पिएं, नियमित रूप  से इसका उपयोग करें जल्द लाभ मिलेगा।

जरूर पढ़ें – क्या आप भी चाहते हैं सोयी किस्मत को जगाना? करें नींबू-मिर्ची के आसान टोटके

4) करी पत्त्ता – करी पत्त्ता हमारे शरीर के अत्यधिक चर्बी को खत्म करने के साथ-साथ कॉलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करता है। मोटापा घटाने के घरेलू उपाय के लिए आप रोज़ाना सुबह अपने भोजन में कम से कम 10 करी पत्त्ता जरूर शामिल करें।

5) ग्रीन टी – अनेक पोषक तत्वों से भरपूर ग्रीन टी मोटापा कम करने के लिए बेहतरीन विकल्प हो सकता है। रोज़ाना 3-4 कप ग्रीन टी का सेवन आपके लिए असरदार उपाय रहेगा।

6) जीरा और मोटापा – मोटापा कम करने के घरेलू नुस्खों में जीरा एक बहुत हीं बेहतरीन विकल्प है। जीरा हमारे शरीर से फालतू चर्बी खत्म करने के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी बढ़ाता है।

जीरे का उपाय करने के लिए आप सबसे पहले एक लीटर  पानी लें और उसमेँ 2 चम्मच जीरा डालें। अब रात भर इसे ऐसे हीं छोड़ दें। अगली सुबह पानी छान कर पी जाएं। या फिर आप दही के साथ भी जीरा पाउडर का सेवन कर सकते हैं।

मोटापा कम करने के लिए डाइट

आमतौर पर ऐसी मान्यता होती है कि खाना छोड़ देने से व्यक्ति का मोटापा कम हो जाएगा जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है। ऐसा करने से हम केवल शारीरिक तौर पर कमज़ोर होते हैं जरूरत है तो हमारे भोजन की कुछ ऐसी चीज़ें छोड़ने कि जो मोटापे को बढ़ावा देती हैं इसीलिए अगर आप भी मोटापा कम करने कि सोच रहे तो यह जानना बेहद जरूरी है कि कौन-कौन सी चीज़ें न खाएं?

क्या ना खाएं ?

  • मोटापा कम करना है तो आप मीठे भोजन का सेवन कम कर दें। आप खाने में चीनी के स्थान पर शहद लें।
  • चीज़ और  मक्खन जैसे दूध से बने उत्पादों का सेवन ना करें लेकिन आप गर्म दूध पी सकते हैं।
  • ठन्डे पेय का उपयोग ना करें इसकी जगह आप गर्म कॉफी या चाय ले सकते हैं।
  • ठंडा पानी पीने की जगह गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें।
  • जंक फूड्स बिलकुल न खाएं। इसकी जगह आप अंकुरित अनाज का सेवन कर सकते हैं।

ऊपर दिए गए खाद्य-पदार्थों को छोड़ कर आप बाकि सब कुछ खा सकते हैं, लेकिन आपको कुछ और भी बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता है। अक्सर मोटापा कम करने के उपाय की शुरुआत लोग अपने डाइट से करते हैं, लेकिन सही जानकारी के अभाव में वे गलत निर्णय लेने लग जाते हैं जिसका उल्टा परिणाम उनके स्वास्थ पर पड़ता है।

  • ब्रेकफास्ट न छोड़ें
  • सब्ज़ियों का भरपूर सेवन करें।
  • कैलोरी फ्री पेय पदार्थों का उपयोग करें।
  • भोजन के बीच में अंतर रखें।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहें।
  • लम्बे समय तक भूखे न रहें।

मोटापा कम करने के लिए व्यायाम

वज़न बढ़ने की एक वजह शारीरिक गतिविधियों का ना होना भी है। हमारा शरीर मशीन की तरह है जितना ज्यादा चलेगा उतना एक्टिव रहेगा, काम न होने पर इसमें ज़ंग लग जाता है. इसलिए ज़रूरी है नियमित रूप से व्यायाम करने की इससे हमारे शरीर से फैट बर्न होता है और हम आंतरिक रूप से स्वस्थ रहते हैं। दरअस्ल, व्यायाम ही मोटापा कम करने की दवा है।

  • सप्ताह में 150 – 300 मिनट तक व्यायाम करने की आवश्यकता होगी। अगर शरीर या वज़न में कोई परिवर्तन न दिखे तो आप व्यायाम के समय में वृद्धि करें।
  • हाई इंटेंसिटी वाले वर्कऑउट्स –  कम समय में तीव्र वर्कऑउट्स करने से हमारे शरीर पर जमा फैट धीरे-धीरे बर्न होने लगता है और हमारा मोटापा कम हो जाता है।
  • पैदल चलें – पैदल चलना मोटापा कम करने में बहुत हीं लाभदायक है इसीलिए  आप रोज़ाना कम से कम 20 मिनट तेज़ी से पैदल चलें।
  • रस्सी कूदें – रस्सी कूदना न केवल हमारे वज़न को कम करता है बल्कि हमारे स्वास्थ के लिहाज़ से भी अच्छा है। आप एक छलांग लगाने वाली रस्सी लें और उसकी मदद से कूदना शुरू करें.
  • स्विमिंग – मोटापा कम करने के लिए स्विमिंग बहुत हीं अच्छा वर्कआउट है। यह चर्बी कम करने के साथ-साथ फिटनेस भी बनाए रखता है।
  • डांस – डांस भी एक तरह का व्यायाम हीं है जिससे हम मोटापा घटाने का काम कर सकते हैं. आप रोज़ाना आधा घंटा डांस करें, इससे आपके शरीर का फैट बर्न होगा।
  • ज्यादा-से ज्यादा शारीरिक मेहनत करें।

अगर आप स्वयं व्यायाम नहीं कर पा रहें तो आप जिम जा सकते हैं, जहाँ ट्रेनर आपको आपके शरीर और वज़न के अनुसार व्यायाम सिखाएगा। लेकिन आप जिम नहीं जा सकते तो वज़न घटाने के लिए ऊपर दिए गए इन टिप्स की मदद ले सकते हैं.

यह भी जाने – अंक ज्योतिष में छुपे हैं आपके जीवन से जुड़े सारे रहस्य

मोटापा कम करने के लिए योगासन

योग न केवल व्यक्ति को शारीरिक बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखता है। अगर आप भी सोच रहे है कि मोटापा कैसे घटाएं? तो हम आपको बता दें कि योग एक ऐसा माध्यम है जिससे आप अपनी छोटी-बड़ी हर तरह की स्वास्थ सम्बन्धी समस्या  का समाधान पा सकते हैं। जितने भी फैट कम करने के उपाय हैं, उनमें उनमें योग व आसन सर्वश्रेष्ठ माने जाते हैं।

कपालभाति

एक चटाई लें और सामान्य मुद्रा में बैठ जाएं। अब अपने दाएँ पैर को बाएँ जांघ के ऊपर और बाएँ पैर को दाएँ जांघ के ऊपर रखें। इस आसान में बैठने के बाद साँस को बाहर छोड़ते हुए, पेट को अंदर धकेले। रोज़ाना सुबह 5 मिनट तक इस प्राणायाम को करें।

अनुलोम-विलोम

सामान्य मुद्रा में पालथी लगा कर बैठ जाएं। अब अपने दाएँ घुटने पर दाएँ हाथ को टिका लें। अब अपने बाएँ हाथ के अंगूठे से नाक के बाएँ छिद्र को बाधित कर दें  और दाएँ छिद्र से तेज़ साँस अंदर की तरफ लें। अब इसी प्रक्रिया को दूसरे भाग से भी करें। प्राणायाम की इस प्रक्रिया को दस से पंद्रह बार तक दोहराएँ।

नौकासन

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले आप अपनी पीठ के बल लेट जाएं। अब अपनी एड़ी और पंजे को मिलाएं, लेकिन ध्यान रहे कि आपके हाथ आपके शरीर में सटे रहें। अब धीरे-धीरे दोनों हाथ, गर्दन और पैरों को सामांतर उठाएँ जिससे आपके शरीर का पूरा भार आपके नितंब पर आ जाए। अब इसी अवस्था में 30 सेकंड तक रुकने के बाद वापस शरीर को नीचे की ओर लाएं। इस प्रक्रिया चार से पाँच बार दोहराएं।

बालासन

सबसे पहले आप वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाएं। अब एक लम्बी साँस लेते हुए आगे की ओर ऐसे झुकें कि आपका सिर ज़मीन से और छाती आपकी जाँघों को छुएं। कुछ इसी अवस्था में बैठे रहने के बाद वापस अपनी स्थिति में आ जाएं। बालासन की प्रक्रिया को पांच बार दोहराएं।

अगर आप लम्बे समय से मोटापे से जूझ रहे हैं और आयुर्वेदिक उपचार, व्यायाम, योग आदि के इस्तेमाल से भी किसी तरह का लाभ नहीं मिल रहा तो एक बार डॉक्टर से जरूर जाँच करा लें। उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दिए गए  मोटापा कम करने के उपाय आपके लिए लाभकारी रहेंगे।

Sharing is Caring

पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.