महा सूर्यग्रहण बीता, असर से बचने के लिए करें ये काम

26 दिसंबर को पड़ा सूर्यग्रहण अब खत्म हो गया। भारत में करीब 11 बजे तक सूर्यग्रहण पड़ा, जिसे कंकड़ सूर्य ग्रहण कहा गया। भारत के अलावा पूर्वी अफ्रीका, एशिया, पूर्वी यूरोप तथा उत्तरी तथा पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में भी इस ग्रहण को देखा गया। इस साल इस सूर्यग्रहण को महासूर्यग्रहण की संज्ञा भी दी गई क्योंकि इस बार सूर्यग्रहण पर 296 साल बाद अनूठा संयोग बना। इस सूर्यग्रहण पर धनु राशि में सूर्य, चंद्र, बृहस्पति, शनि, बुध और केतु यह ग्रह विराजमान रहे। ये अद्भुत संयोग है और इस पिछली तीन पीढ़ियों के जीवनकाल में ऐसा कभी नहीं रहा। इसके अतिरिक्त राहु का प्रभाव भी होने से 7 ग्रहों का महासंयोग बना। खास बात यह भी थी कि सूर्य, चंद्रमा, बुध और बृहस्पति चारों ग्रह मूल नक्षत्र में ही स्थित हैं, जिसकी वजह से ग्रहों का यह महागठबंधन बड़े-बड़े गुल खिलाने में सक्षम है।

दिलचस्प है कि धनु राशि में छह ग्रहों वाले ऐसे सूर्यग्रहण का दुर्लभ योग अब 559 साल बाद 9 जनवरी 2578 को बनेगा। उस समय सूर्य, बुध, गुरु, शनि, चंद्र और केतु धनु राशि में रहेंगे, राहु की दृष्टि के साथ सूर्य ग्रहण होगा।

सूर्यग्रहण का असर विभिन्न राशियों पर अलग अलग तरह से पड़ता है, जिसके विषय में हम आपको अपने पिछले लेखों में बता चुके हैं।

पढ़ें: सूर्यग्रहण का विभिन्न राशियों पर प्रभाव

लेकिन सूर्यग्रहण के समाप्त हो जाने का अर्थ यह नहीं है कि जैसे ही सूर्यग्रहण खत्म हुआ, उसका असर खत्म हो गया। सूर्यग्रहण का प्रभाव अमूमन दो हफ्ते तक रहता है। एक लिहाज से इस सूर्यग्रहण का असर 10 जनवरी तक रहेगा। ऐसे में जरुरी है कि ग्रहण के बाद की नकारात्मकता को दूर करने के लिए उपाय किए जाएं।

सूर्यग्रहण का असर कम करने के लिए उपाय

-ग्रहण के बाद घर की अच्छी  तरह साफ सफाई की जाए

-स्नान के बाद घर को पूजा कर शुद्ध किया जाए और देवी-देवताओं तथा घर के मुख्य द्वार पर गंगा जल का छिड़काव किया जाए

-ग्रहण के बाद यदि नदी में स्नान संभव हो तो किया जाना चाहिए

-ग्रहण के दौरान पहने गए कपड़ों को दोबारा नहीं पहनना चाहिए। अच्छा हो स्नान के बाद इन्हें दान दे दिया जाए

-ग्रहण के बाद पितरों को याद करके उनके नाम पर दान देना अच्छा रहता है

-ग्रहण के बाद तुलसी के पौधे पर भी गंगाजल का छिड़काव करें ताकि वो भी ग्रहण के दुष्प्रभावों से मुक्त हो सके

-ग्रहण के बाद शिवपूजा लाभदायक मानी गई है तो संभव हो तो मंदिर जाकर पूजा करें

ग्रहण के बाद राशि अनुसार करें दान

मेष-हरी चीजों का दान लाभदायक रहता है। संभव हो तो गरीब लोगों को हरी सब्जी भी दान कर सकते हैं

वृषभ-लाल फलों का दान लाभदायक रहेगा

मिथुन-सफेद चीजों का दान करें

कर्क-काली चीजों का दान लाभदायक रहेगा

सिंह-जूते का दान बेहतर साबित होगा

कन्या-अन्न का दान करना बेहतर होगा

तुला-काली चीजों का दान करें

वृश्चिक-सफेद चीजों का दान करें

धनु-गरीबों को फल-अन्न दें

मकर-गरीब बच्चों को यदि कपड़े दान कर सकें तो बेहतर है

कुंभ-मंदिर में गरीबों को भोजन कराएं

मीन-फल का दान करें

उम्मीद है कि उपरोक्त सुझावों पर अमल करने के बाद आप सूर्यग्रहण के नकारात्मक प्रभावों से मुक्ति पा सकेंगे। गौरतलब है कि अगला सूर्यग्रहण अब 2020 में 21 जून को होगा सूर्य ग्रहण

सूर्यग्रहण के नकारात्मक प्रभाव आप पर ना पड़ें। नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो। एस्ट्रोसेज की तरफ से आपको ढेरों शुभकामनाएं।

Spread the love
पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.