क्या कहते हैं ‘सूरमा’ के सितारे: रुपहले पर्दे पर संदीप सिंह की कहानी

सूरमा: हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह के जीवन पर बनी प्रेरणादायक फिल्म

भारतीय हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह के जीवन पर आधारित फिल्म ‘सूरमा’ 13 जुलाई को रिलीज होने के लिए तैयार है। एक्टर दिलजीत दोसांझ अभिनीत फिल्म सूरमा अपने ट्रेलर से पहले ही धूम मचा चुकी है। ‘रंगरुट’ के बाद एक बार फिर दिलजीत दोसांझ के फैन्स उन्हें सूरमा में देखने के लिए बेकरार हैं। सूरमा एक प्रेरणा देने वाली फिल्म है, जो कि हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह के संघर्ष को बयां करती है। हॉकी में अपने दमदार प्रदर्शन से नाम कमा चुके संदीप सिंह भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान रह चुके हैं। आइये जानते हैं इस रियल हीरो की कहानी…

हरियाणा से आने वाले संदीप सिंह ने जनवरी 2004 में मलेशिया में हुए अजलन शाह कप से अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर का आगाज़ किया। इसके अलावा एशिया कप में भारत की जीत में भी संदीप सिंह की अहम भूमिका थी। ये वक्त संदीप सिंह का सबसे स्वर्णिम काल था। हॉकी में उनके सबसे तेज ड्रैग फ्लिकर ने उन्हें प्रसिद्धि दिलाई, इस वजह से संदीप सिंह को फ्लिकर सिंह के नाम से भी बुलाया जाने लगा। इस फिल्म में दिलजीत दोसांझ, तापसी पन्नू और अंगद बेदी मुख्य भूमिका में हैं।

एक नज़र में फिल्म सूरमा की स्टार कास्ट, प्रॉडक्शन और बजट

जॉनर स्पोर्ट/बायोपिक
डायरेक्टर शाद अली
प्रॉड्यूसर चित्रांगदा सिंह, दीपक सिंह
म्यूज़िक शंकर-एहसान-लॉय
बजट 32 करोड़

दिलजीत दोसांझ स्टारर ‘सूरमा’ की समीक्षा

सूरमा 13 जुलाई को रिलीज़ होने के लिए तैयार है। फिल्म का फर्स्ट लुक और टीज़र पहले ही धूम मचा चुका है। मूवी का पोस्टर सोशल मीडिया पर लगातार शेयर और लाइक किया जा रहा है। फिल्म का निर्माण सोनी पिक्चर्स और चित्रांगदा सिंह ने मिलकर किया है और इसका निर्देशन किया है ‘बंटी और बबली’ के निर्देशक रहे शाद अली ने।

शाद अली इससे पहले कई फिल्म जैसे- दिल से, बंटी और बबली, गुरु, रावण आदि फिल्मों से जुड़े रहे हैं। फिल्म का निर्माण किया है सोनी पिक्चर्स और चित्रांगदा सिंह, दीपक सिंह ने, जबकि फिल्म में संगीत दिया है शंकर-एहसान-लॉय की तिकड़ी ने। वहीं सूरमा के लिए गीत लिखे हैं मशहूर गीतकार गुलजार ने और फिल्म की कहानी व निर्देशन शादी अली ने किया है।

संदीप सिंह का मुश्किल वक्त

संदीप सिंह एक बहुत बेहतर खिलाड़ी बनकर उभरने लगे थे। इंडियन हॉकी टीम को भविष्य में उनसे काफी उम्मीदें थीं। वे अपने करियर में धीरे-धीरे आगे बढ़ रहे थे लेकिन शायद ज़िंदगी को कुछ और ही मंज़ूर था। साल 2006 में रेल में सफर के दौरान उन्हें दुर्घटनावश गोली लग गई और वे बुरी तरह घायल हो गये। दरअसल संदीप सिंह उस समय दिल्ली-कालका शताब्दी एक्सप्रेस से नेशनल कैंप में शामिल होने के लिए दिल्ली जा रहे थे। इस हादसे में संदीप सिंह बच गये लेकिन उनके करियर को तगड़ा झटका लगा। गोली लगने की वजह से संदीप सिंह का शरीर पैरालाइज हो गया और उन्हें अगले 2 सालों के लिए व्हील चेयर पर बैठना पड़ा। इस हादसे ने न सिर्फ संदीप सिंह और उनकी फैमिली को निराश किया बल्कि उनके चाहने वाले फैन्स भी बहुत मायूस हुए।

‘इश्क दी बाजियां’ ने जीता दिल

‘इश्क दी बाजियां’ फिल्म का सबसे रोमांटिक गीत है, जो दिलजीत दोसांझ और तापसी पन्नु के बीच लव की केमेस्ट्री को जाहिर करता है। यह गीत आपको अपने कॉलेज के दिनों और अपने पार्टनर की याद दिलाएगा। एक्टर और सिंगर दिलजीत दोसांझ पर फिल्माया गया यह गीत बेहद प्यारा है।

बेहतरीन म्यूजिक कंपोजिशन से तैयार ‘इश्क दी बाजियां’ सॉन्ग को गाया है खुद एक्टर दिलजीत दोसांझ ने। यह गीत संदीप सिंह और हरप्रीत के प्यार भरे रिश्ते पर फिल्माया गया है। जिनका किरदार फिल्म में दिलजीत दोसांझ और तापसी पन्नु ने निभाया है। दोनों के प्यार को बयां करने वाला यह गीत फिल्म का सबसे शानदार और दिल को छू जाने वाला सॉन्ग है। वे सभी लोग जो दिलजीत दोसांझ के डाय हार्ट फैन हैं इस गाने को सुनने और देखने के लिए बेहद बेकरार हैं।

दिल छू लेने वाला ‘सूरमा एन्थम’

हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह का जीवन हर इंसान और खिलाड़ी के लिए प्रेरणा लेने वाला है। इस जाबांज हॉकी खिलाड़ी की ज़िंदगी के संघर्ष को पर्दे पर बेहद खूबसूरती से उतारा गया है। फिल्म के एंथम सॉन्ग में इसकी झलक देखने को मिलती है। सफलता और संघर्ष के बीच देश के लिए खेलने वाले संदीप सिंह की कहानी वाकई क़ाबिल-ए-तारीफ़ है।

मशहूर गीतकार गुलजार द्वारा लिखा गया फिल्म का एक गीत ‘इश्क दी बाजियां’ जिसे शंकर-एहसान-लॉय ने अपनी धुनों से सजाया है। एक्टर दिलजीत दोसांझ और तापसी पन्नु के बीच होने वाले प्यार को इस सॉन्ग की मदद से बेहद खूबसूरती से बयां किया गया है। गाने के बोल और इसका फिल्मांकन दिल को छू लेने वाला है।

क्या बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाएगी ‘सूरमा’

आइये अब ज्योतिष समीकरणों की मदद से जानते हैं बॉक्स ऑफिस पर कैसा प्रदर्शन करने वाली है फिल्म ‘सूरमा’।

तिथि का प्रभाव

फिल्म ‘सूरमा’ 13 जुलाई 2018 को रिलीज़ हो रही है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, इस दिन नंदा तिथि है और इसका नाम शुक्ल प्रतिपदा है। ऐसी मान्यता है कि यह तिथि खुशियों को आकर्षित करती है, इसलिए तिथि के प्रभाव से सूरमा को जबरदस्त कामयाबी मिलने की उम्मीद है।

नक्षत्र का प्रभाव

13 जुलाई 2018 को पुनर्वसु नक्षत्र है। यह नक्षत्र कम अवधि के कार्यों और आर्थिक लाभ के लिए फिल्म की रिलीज़िंग को लेकर उपयुक्त नहीं है।

योग की शक्ति

हर्षण योग को लाभकारी और खुशियों से भरा परिणाम देने वाला कहा जाता है। यह फिल्म की सफलता को लेकर एक सकारात्मक संकेत दे रहा है।

ताराबल: फिल्म सूरमा में दिलजीत दोसांझ मुख्य भूमिका में हैं। दिलजीत का जन्म नक्षत्र फिल्म की रिलीज़िंग तारीख के नक्षत्र से अशुभ संयोग बना रहा है, इसलिए यह एक नकारात्मक संकेत फिल्म के लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता है।

अंक ज्योतिष के अनुसार क्या कहती है फिल्म ‘सूरमा’

फिल्म सूरमा का नामांक 24 है। यह नंबर दिलजीत दोसांझ और अंगद बेदी की जन्म तारीखों से मेल खाता है।

फिल्म की रिलीज़िंग डेट 13-7-2018 है। वहीं 13-7-2018 का भाग्यांक भी 13 है। हालांकि 13 नंबर अंगद बेदी और दिलजीत दोसांझ के लिए पूरी तरह से अशुभ है। यद्यपि यह नंबर संघर्ष और गलतफहमी को दर्शाता है। यह तारीख तापसी पन्नु की जन्म तिथि के साथ अच्छा संयोग बनाती है। अंक 13 का स्वामी राहु है। वैदिक ज्योतिष में राहु एक छाया ग्रह है यह अचानक और हैरान करने वाले परिणाम देने के लिए जाना जाता है।

ज्योतिष-अंक ज्योतिष का अनुमान- यह फिल्म समीक्षकों द्वारा सराही जाएगी। दिलजीत दोसांझ और तापसी पन्नु की एक्टिंग की भी तारीफ होगी लेकिन फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा अच्छी सफलता मिलने की संभावना कम है।

‘सूरमा’ की पूरी स्टार कास्ट को शुभकामनाएँ!

स्टार रेटिंग – 3/5

ज्योतिषाचार्य राजीव खट्टर
राजीव एस खट्टर एक प्रसिद्ध ज्योतिषी हैं, जो लाल किताब भविष्यवाणियों, केपी सिस्टम और पराशरी के लिए लोकप्रिय हैं। इन्हें न्यूमेरोलॉजी, होरी ज्योतिष और वास्तु का भी विस्तृत ज्ञान है। पेशे से मैकेनिकल इंजीनियर राजीव एस खट्टर इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया में भी सक्रिय हैं।

Spread the love
पाएँ ज्योतिष पर ताज़ा जानकारियाँ और नए लेख
हम वैदिक ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म, वास्तु, फेंगशुई, रेकी, लाल किताब, हस्तरेखा शास्त्र, कृष्णमूर्ती पद्धति तथा बहुत-से अन्य विषयों पर यहाँ तथ्यपरक लेख प्रकाशित करते हैं। इन ज्ञानवर्धक और विचारोत्तेजक लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को और बेहतर बना सकते हैं। एस्ट्रोसेज पत्रिका को सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे अपना ई-मेल पता भरें-

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.